america taliban

तालिबान पर अमेरिकी प्रतिबंध का मतलब है कि अब वो किसी भी फंड का इस्तेमाल नहीं कर सकता, हालांकि इसे लेकर यूएस ट्रेजरी डिपार्टमेंट ने टिप्पणी करने से इंकार कर दिया है।

अमेरिका ने अफगानिस्तान से भले ही अपने सैनिकों को वापस बुला लिया हो, लेकिन तालिबान के खिलाफ उसकी जंग अभी भी जारी दिख रही है, इसी कड़ी में अमेरिका ने अफगानिस्तान के सेंट्रल बैंक की करीब 9.5 अरब डॉलर यानी 706 अरब रुपये से ज्यादा की संपत्ति फ्रीज कर दी है, इतना ही नहीं देश के पैसे तालिबान के हाथ ना चले जाएं, इसके लिये अमेरिकी ने फिलहाल अफगानिस्तान को कैश की सप्लाई भी रोक दी है।

अधिकारी ने की पुष्टि
ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिकी प्रशासन के एक अधिकारी ने इसकी पुष्टि की है, अधिकारी ने बताया कि अमेरिका में अफगान सरकार के सेंट्रल बैंक की कोई भी संपत्ति तालिबान के लिये उपलब्ध नहीं होगी, ये संपत्ति ट्रेजरी डिपार्टमेंट की प्रतिबंधित सूची में बनी रहेगी।

तालिबान को रोकने की कोशिश
इससे पहले अफगान सेंट्रल बैंक के मुखिया अजमल अहमद ने सोमवार को सिलसिलेवार ट्वीट्स में ये बताया था कि अमेरिका की ओर से डॉलर की शिपमेंट रुकने वाली है, Taliban क्योंकि यूएस किसी भी सूरत में ये नहीं चाहता कि फंड पर तालिबान का कब्जा हो।

टिप्पणी से इंकार
तालिबान पर अमेरिकी प्रतिबंध का मतलब है कि अब वो किसी भी फंड का इस्तेमाल नहीं कर सकता, हालांकि इसे लेकर यूएस ट्रेजरी डिपार्टमेंट ने टिप्पणी करने से इंकार कर दिया है। लेकिन इसे अमेरिका का तालिबान के खिलाफ बड़ी कार्रवाई मानी जा रही है।

Read Also – कितनी है तालिबान की संपत्ति, कहां से आता है संगठन चलाने के लिये अथाह पैसा, जानिये