साल 2005 में जीएसआई टीम ने सोने की तलाश के लिये काम शुरु किया था, टीम ने गहन अध्ययन करने के बाद साल 2012 में इस बात की पुष्टि की थी।

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में 3 हजार टन सोने का खान मिला है, ये सोना जमीन के भीतर दबा है, प्रदेश के खनिज विभाग ने सोने का पता लगाया है, जल्द ही इस सोने को निकालने का काम शुरु कर दिया जाएगा, जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (जीएसआई) की टीम पिछले 15 सालों से यहां काम कर रही थी, आपको बता दें कि टीम ने 8 साल पहले जमीन के अंदर सोना होने की पुष्टि कर दी थी, यूपी सरकार ने इस मामले पर तेजी दिखाते हुए ई-नीलामी की प्रक्रिया शुरु कर दी है।

सोने का भंडार
मालूम हो कि साल 2005 में जीएसआई टीम ने सोने की तलाश के लिये काम शुरु किया था, टीम ने गहन अध्ययन करने के बाद साल 2012 में इस बात की पुष्टि की थी, कि यहां खनिज का भंडार है, टीम ने बताया था कि सोनभद्र की पहाड़ियों में सोना मौजूद है, जीएसआई के मुताबिक हरदी क्षेत्र में करीब 646.15 टन सोने का भंडार है, तो वहीं सोन पहाड़ी में 2943.25 टन सोने का भंडार है।

22 फरवरी तक जियो टैगिंग
यूपी सरकार ने भी मामले में तेजी दिखाते हुए ब्लॉक के आवंटन के संबंध में प्रक्रिया शुरु कर दी है, मालूम हो कि सोनभद्र के कोन क्षेत्र के हरदी गांव में और महुली क्षेत्र के सोन पहाड़ी में सोने का एक बड़ा भंडार मिलने की पुष्टि हो चुकी है, ई-नीमाली के माध्यम से ब्लॉकों को आवंटित किया जाएगा, इसके लिये 7 सदस्यीय टीम गठित कर दी गई है, ये टीम पूरे क्षेत्र की जिओ टैगिंग करेगी, और 22 फरवरी 2020 तक अपनी रिपोर्ट भूतत्व विभाग लखनऊ को सौंप देगी।

सोनभद्र का खनिज विभाग
सोनभद्र में सोना ही नहीं इससे पहले फुलवार क्षेत्र में दो स्थानों- सलैयाडीह में एडालुसाइट, पटवध क्षेत्र में पोटाश, भरहरी में लौह अयस्क और छपिया ब्लाक में सिलीमैनाइट के भंडार की खोज हो चुकी है, जिले के खनिज अधिकारी के के राय ने बताया कि सोनभद्र जिले में यूरेनियम के भी भंडार होने की संभावना है, जिसकी तलाश में टीम लगी हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here