उन्नाव केस- पीड़िता की बहन को मिला ये आश्वासन, तो परिवार ने किया अंतिम संस्कार

0
90
Loading...

उन्नाव केस – पीड़िता का शुक्रवार रात 11.40 बजे इलाज के दौरान निधन हो गया था, पीड़िता की मौत गंभीर रुप से जलने की वजह से हुई।

उन्नाव सामूहिक दुष्कर्म की पीड़िता के परिवार ने जिला प्रशासन और वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की ओर से आश्वासन मिलने के बाद पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया, इससे पहले परिजन इस बात पर अड़े थे, कि जब तक सीएम योगी आदित्यनाथ नहीं आएंगे, वो पीड़िता का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे, पीड़िता की बहन ने राज्य सरकार से सरकारी नौकरी की मांग की है।

अंतिम संस्कार के लिये राजी नहीं
जिला प्रशासन के काफी मनाने के बावजूद पीड़िता के घर वालों अंतिम संस्कार के लिये राजी नहीं थे, जिसके बाद लखनऊ मंडलायुक्त मुकेश मेश्राम ने परिजन से करीब आधे घंटे बातचीत की, उन्हें समझाया-बुझाया, जानकारी के अनुसार जिला प्रशासन के अधिकारियों ने पीड़िता की बहन को सरकारी नौकरी देने का आश्वासन दिया है, जिसके बाद परिजनों ने अंतिम संस्कार किया।

Loading...

दादा-दादी की समाधि के पास दफनाया
इसके बाद कड़ी सुरक्षा के बीच पीड़िता के शव को गांव के बाहर एक खेत में उनके दादा-दादी की समाधि के पास ही दफना दिया गया, अंतिम संस्कार में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और कमल रानी वरुण के अलावा कई अधिकारी भी मौजूद थे, इसके साथ ही सपा के भी कुछ नेता मौजूद थे।

शुक्रवार रात निधन
पीड़िता का शुक्रवार रात 11.40 बजे इलाज के दौरान निधन हो गया था, पीड़िता की मौत गंभीर रुप से जलने की वजह से हुई, यूपी सरकार ने पीड़िता के परिवार को 25 लाख रुपये और प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत एक घर देने का ऐलान किया है।

पीड़िता के भाई का दुख
23 वर्षीय पीड़िता को गुरुवार तड़के बलात्कार को दो आरोपियों समेत 5 लोगों ने जिंदा जलाने की कोशिश की, युवती जलते हुए 1 किमी तक दौड़ी, पीड़िता के भाई के कहा कि मेरी बहन को तभी न्याय मिलेगा, जब सभी आरोपियों को वहीं भेजा जाएगा, जहां मेरी बहन चली गई है, मेरी बहन ने मुझसे कहा था कि भाई मुझे बचा लो, लेकिन मैं उसे बचा नहीं सका।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here