amit kale

अमित काले ने सबसे पहले यूपीएससी स्टडी मेटेरियल तैयार करने के बाद ये देखा कि उनके लिये कौन सा विषय पढना आसान है, इस हिसाब से उन्होने सब्जेक्ट की लिस्ट तैयार की।

यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी के दौरान हर विद्यार्थी अपनी क्षमताओं के मुताबिक अलग रणनीति तैयार करता है, ताकि जल्द सफलता हासिल हो सके, हालांकि कई बार उनकी रणनीति से सफलता मिलने में थोड़ा समय लग जाता है, आज आपको यूपीएससी परीक्षा पास कर आईएएस अधिकारी बनने वाले अमित काले की कहानी बताएंगे, जिन्होने बेहद खास रणनीति अपनाकर सिविल सेवा में सफलता हासिल की, ये खास रणनीति उनलोगों के लिये भी फायदेमंद हो सकती है, जो इस समय सिविल सेवा की तैयारी करने का प्लान बना रहे हैं।

आसान विषयों को पहले पढा
अमित काले ने सबसे पहले यूपीएससी स्टडी मेटेरियल तैयार करने के बाद ये देखा कि उनके लिये कौन सा विषय पढना आसान है, इस हिसाब से उन्होने सब्जेक्ट की लिस्ट तैयार की, फिर अपना शेड्यूल भी इसी हिसाब से तैयार किया। अमित काले के अनुसार उन्होने सबसे पहले आसान विषयों पर मजबूत पकड़ बनाई, फिर कठिन सब्जेक्ट को समय देना शुरु किया, उनके अनुसार हर विद्यार्थी को क्षमताओं के अनुसार सब्जेक्ट कठिन या आसान लग सकते हैं, ऐसे में आप पहले ये तय कर लें, फिर उसी हिसाब से तैयारी करें।

हर बार पास की प्री परीक्षा
आपको शायद हैरानी होगी, कि अमित काले ने यूपीएससी की प्री परीक्षा चारों बार पास की, शुरुआती दो प्रयासों में वो फाइनल राउंड तक नहीं पहुंच सके, लेकिन तीसरे प्रयास में मेन्स परीक्षा पास कर ली, इस बार उनकी रैंक अच्छी नहीं आई, उन्हें आईएएस सेवा नहीं मिली, ऐसे में उन्होने एक बार फिर से कोशिश की, 2018 में मन मुताबिक सफलता मिली, उन्होने करीब 5 साल लंबे संघर्ष के बाद यूपीएससी में सफलता हासिल की।

अन्य कैडिडेंट्स को सलाह
अमित काले का मानना है कि यूपीएससी तैयारी के दौरान आपको सबसे पहले खुद की क्षमताओं का आकलन कर लेना चाहिये, उसी हिसाब से आगे बढना चाहिये, दूसरों की स्ट्रेटजी कॉपी करना आपके लिये ज्यादा फायदेमंद साबित नहीं होती, इसलिये आप अपना तरीका अपनाएं, कड़ी मेहनत करें, अमित काले कहते हैं, कि यहां कई बार आप असफल होते हैं, लेकिन हर बारे दोगुने जोश के साथ आगे बढें, सही दिशा में लगातार कोशिश करने पर सफलता जरुर मिलती है।

Read Also – सक्सेस स्टोरी- कभी खुद करते थे नौकरी, आज हैं अरबों की कंपनी HCL के मालिक