Sneha Dubey Anjana

वायरल वीडियो में दिखाया जा रहा है कि अंजना ओम कश्यप ने स्नेहा से कहा, आज गर्व की बात है, जिस तरह से पाक को आपने जवाब दिया, इसके बाद आज आपको पूरा देश सुनना चाहता है।

संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाक को खरी-खरी सुनाने वाली जमशेदपुर की बेटी आईएफएस स्नेहा दूबे रातों-रात स्टार बन गई हैं, अब उनसे मिलने तथा बात करने वालों को 10 बार सोचना चाहिये, इस भाषण के बाद आजतक न्यूज चैनल की एंकर-रिपोर्टर अंजना ओम कश्यप स्नेहा दूबे से बात करने यूएस पहुंची थी, जैसे ही स्नेहा ने अंजना को सामने देखा, बिना कुछ बोले बाहर का रास्ता दिखा दिया।

वीडियो ट्रेंड
इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है, आपको पता ही होगा कि हर बार कश्मीर राग अलापकर ही पाक के शासकों की नौकरी बची रहती है, हर बार के लिये भारत को दोष देने वाले पाक के पीएम को स्नेहा ने अपने भाषण में शनिवार को ऐसा धोया कि भारत समेत पूरी दुनिया में स्नेहा दूबे का डंका बजने लगा, 2012 बैच की आईएफएस अधिकारी स्नेहा दूबे हर जगह छायी हुई हैं, इंटरनेट मीडिया में उनकी तारीफ के पुल बांधे जा रहे हैं, इस बीच अंजना ओम कश्यप ने स्नेहा से रिएक्शन मांगकर अपनी फजीहत करवा ली।

क्या पूछा था अंजना ओम कश्यप ने
वायरल वीडियो में दिखाया जा रहा है कि अंजना ओम कश्यप ने स्नेहा से कहा, आज गर्व की बात है, जिस तरह से पाक को आपने जवाब दिया, इसके बाद आज आपको पूरा देश सुनना चाहता है, sneha dubey वैसे आपके लिये ये रुटीन काम है, लेकिन ये बड़ी चीज है, इस पर स्नेहा दूबे ने हाथ जोड़ते हुए कहा, कि जो हमें बोलना था, वो मैंने बोल दिया है, इसके बाद स्नेहा ने अंजना को विनम्रता के साथ बाहर जाने का इशारा किया।

सोशल मीडिया पर ट्रेंड
इस वीडियो के इंटरनेट पर ट्रेंड होने के बाद तरह-तरह के कमेंट्स आ रहे हैं, एक ने लिखा, संयुक्त राष्ट्र में भारत का प्रतिनिधि स्नेहा दूबे ने अंजना ओम कश्यप को कमरे से बाहर जाने के लिये कहा, क्योंकि उन्होने बिना आधिकारिक अनुमति के कमरे में प्रवेश करके प्रोटोकॉल तोड़ा था, तो दूसरे यूजर ने लिखा, भारतीय राजनयिक वास्तव में बेहतर प्रशिक्षित होते हैं, मैं भी उनके जैसा बनना चाहता हूं, वो जानते हैं कब क्या बयान देना है, और कब चुप रहना है।

जमशेदपुर में जन्मी और पली-बढी हैं स्नेहा
संयुक्त राष्ट्र की पहली महिला सचिव स्नेहा दूबे का जन्म झारखंड के जमशेदपुर स्थित केबुल टाउन में हुआ था, स्नेहा के पिता जेपी दूबे इंकैब इंडस्ट्रीज लिमिटेड में इंजीनियर थे, इसी कंपनी में स्नेहा के नाना चीफ अकाउंटेंट थे, 2000 में केबुल कंपनी बंद होने के बाद स्नेहा के पिता परिवार समेत यहां से शिफ्ट हो गये थे, जिसके बाद स्नेहा की पढाई गोवा और पुणे में हुई है।

Read Also – पति-पत्नी और फूफा, हत्या, साजिश से लेकर फांसी तक, पढिये प्यार की खूनी लव स्टोरी