Friday, April 23, 2021

भारत-चीन सीमा विवाद पर रुस ने तोड़ी चुप्पी, जानिये किसे करेगा सपोर्ट? वीडियो

रुस के विदेश मंत्री ने मंगलवार को भारत और चीन के विदेश मंत्रियों के साथ वर्चुअल मीटिंग की, जिसमें तीनों देशों के विदेश मंत्री मौजूद रहे।

भारत-चीन सीमा विवाद ने पूरी दुनिया में हलचल पैदा कर दी है, अमेरिका खुलकर भारत का समर्थन कर रहा है, जिसके बाद सबकी नजरें रुस पर टिकी थी, कि वो किसका साथ देने वाला है, रुस ने स्पष्ट कर दिया है, कि भारत-चीन के बीच जारी सीमा विवाद द्विपक्षीय मामला है, इसमें किसी तीसरे के हस्तक्षेप करने की जरुरत नहीं है, रुस के विदेश मंत्री ने मंगलवार को भारत और चीन के विदेश मंत्रियों के साथ वर्चुअल मीटिंग की, जिसमें तीनों देशों के विदेश मंत्री मौजूद रहे।

रुस की कोई भूमिका नहीं
रुस को विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने इस बैठक में स्पष्ट कहा कि सीमा विवाद के निपटारे में उनकी कोई भूमिका नहीं होगा, उन्हें पूरा यकीन है, कि दोनों देशों आपसी बातचीत से मसले को सुलझाने में सक्षम हैं, रुसी विदेश मंत्री ने कहा कि मुझे नहीं लगता है, इस मामले पर किसी तीसरे को बोलने की जरुरत है, मुझे लगता है कि दोनों खुद ही आवश्यकता के अनुसार बातचीत से मसले को हल कर लेंगे।

शांतिपूर्ण समाधान
रुस के विदेश मंत्री ने कहा कि दोनों देश अपने दम पर मामले को हल कर सकते है, मेरा मतलब हालिया घटनाक्रमों से है, लावरोव ने कहा कि नईदिल्ली और बीजिंग दोनों ने शांतिपूर्ण समाधान के लिये प्रतिबद्धता दिखाई है, रक्षा अधिकारियों से लेकर विदेश मंत्री स्तर पर बैठकें हुई है, दोनों पक्षों में से किसी ने भी ऐसा बयान नहीं दिया है, जिससे संकेत मिले कि इनमें से कोई भी गैर-कूटनीतिक समाधान चाहता है।

मध्यस्थता से इंकार
लावरोव ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि भारत-चीन मामले में किसी तीसरे को दखल देने की जरुरत है, इन दोनों को किसी की जरुरत नहीं है, क्योंकि ये सीमा विवाद है, Galwan2 और इसे बातचीत से हल किया जा सकता है, स्पूतनिक न्यूज ने रुस के विदेश मंत्री के हवाले से लिखा है, जैसा कि मैं समझता हूं, सैन्य और मंत्री स्तर पर संपर्क जारी है, जल्द ही समाधान हो जाएगा।

Related Articles

- Advertisement -spot_img

Latest Articles