Taliban

फोर्ब्स ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि तालिबान के पास पैसे कमाने का मूल स्त्रोत मादक पदार्थो की तस्करी, सुरक्षा देने के नाम पर वसूली, अलग-अलग चरमपंथी संगठनों से मिला दान और उन इलाकों से वसूला गया धन था।

अफगानिस्तान में तालिबान तेजी से पांव पसार रहा है, माना जा रहा है कि अगले 3 महीनों में तालिबान का काबुल पर कब्जा हो जाएगा, तालिबान ने 12 प्रांतों की राजधानियों पर नियंत्रण स्थापित कर लिया है, देश के कई प्रांतों के नेताओं तथा सामाजिक कार्यकर्ताओं को बंदी बना लिया है, लेकिन 2021 का तालिबान औ 1990 के तालिबान में काफी अंतर है। एक वीडियो फुटेज जारी किया गया है, जिसमें साफतौर से ये अंतर दिख रहा है।

तालिबान के पास कितनी संपत्ति
फोर्ब्स ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि तालिबान के पास पैसे कमाने का मूल स्त्रोत मादक पदार्थो की तस्करी, सुरक्षा देने के नाम पर वसूली, अलग-अलग चरमपंथी संगठनों से मिला दान और उन इलाकों से वसूला गया धन था, जहां तालिबान का कब्जा था, फोर्ब्स ने 2016 में 400 मिलियन वार्षिक व्यापार की रिपोर्ट जारी की थी, हालांकि अब उसकी संपत्ति में काफी ज्यादा वृद्धि हो गई है।

काफी बढी तालिबान की संपत्ति
रेडियो फ्री यूरोप/ रेडियो लिबर्टी ने नाटो की गोपनीय रिपोर्ट के हवाले से तालिबान की संपत्ति को लेकर बड़ा खुलासा किया है, रिपोर्ट में कहा गया है कि तालिबान की संपत्ति में कई गुना इजाफा हुआ है, 2019-20 में तालिबान का वार्षिक बजट 1.6 अरब डॉलर था, तो 2016 के फोर्ब्स के आंकड़ों की तुलना में 4 सालों में 400 प्रतिशत की वृद्धि है, इस रिपोर्ट में लिस्ट बनाकर दिखाया गया है, कि तालिबान के पास कहां से इतने पैसे आते हैं, इन पैसों को तालिबान कहां खर्च करता है।

राजस्व का स्त्रोत
नाटो के खुफिया दस्तावेज से जो रिपोर्ट हासिल की गई है, उसमें तालिबान की कमाई का पूरा किस्सा दर्ज है, रिपोर्ट में कहा गया है कि तालिबान माइनिंग से 464 मिलियन डॉलर कमाता है, तो मादक पदार्थों की तस्करी से उसे 416 मिलियन डॉलर की कमाई होती है, afghanistan फिर अलग-अलग चरमपंथी संगठन से 240 मिलियन डॉलर चंदा मिलता है, फिर अलग-अलग लोगों से करीब 240 मिलियन डॉलर की उगाही करता है, वहीं जिन इलाकों पर तालिबान का कब्जा है, वहां से तालिबान बतौर टैक्स करीब 160 मिलियन वसूलता है, जिसमें प्रोटेक्शन मनी और एक्सटॉर्शन मनी भी शामिल है। साथ ही रीयल इस्टेट से 80 मिलियन डॉलर की कमाई होती है।

Read Also – अफगानिस्तान- तख्तापलट के बाद कौन होगा तालिबान का चेहरा, रेस में सबसे आगे ये नाम