निर्भया केस – ऐसे में ये मामला पेचीदा हो जाता है, क्योंकि इस पूरे केस का इकलौता चश्मदीद गवाह निर्भया का दोस्त अवनींद्र ही है।

आपको ध्यान होगा, कि न्यूज-24 और इंडिया टीवी के पूर्व प्रबंध संपादक अजीत अंजुम ने पिछले महीने ही अपने ट्विटर हैंडल पर कई ट्वीट्स के जरिये एक बड़ा खुलासा किया था, उन्होने बताया था कि कैसे निर्भया के दोस्त अवनींद्र टीवी चैनल पर आने के लिये पैसे लेते थे, पैसे लेते हुए उनका स्टिंग न्यूज-24 ने किया था, लेकिन इसे इस वजह से प्रसारित नहीं किया, क्योंकि इससे केस पर फर्क पड़ता, उनके इसी खुलासे को अब निर्भया सामूहिक दुष्कर्म के एक आरोपी पवन गुप्ता के पिता ने ढाल बनाने की कोशिश की है।

कोर्ट में याचिका
दोषी पवन गुप्ता के पिता ने एडवोकेट एपी सिंह के जरिये दिल्ली की एक कोर्ट में याचिका दाखिल की है, कि निर्भया सामूहिक दुष्कर्म के समय बस में मौजूद अवनींद्र के बारे में ये खुलासा हुआ है कि उसने पैसे लेकर टीवी चैनलों को इंटरव्यू दिये हैं, ऐसे में अवनींद्र की गवाही पर भरोसा नहीं किया जा सकता, उसकी गवाही को खारिज किया जाए, साथ ही उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाए।

मामला पेचीदा
ऐसे में ये मामला पेचीदा हो जाता है, क्योंकि इस पूरे केस का इकलौता चश्मदीद गवाह निर्भया का दोस्त अवनींद्र ही है, कहा जा रहा है कि इस स्टिंग ऑपरेशन के बाद अवनींद्र न्यूज चैनल से गायब ही हो गया था, जिसके बाद उसने न्यूज चैनलों से दूरी बना ली थी।

13 दिसंबर से सुनवाई शुरु
वकील एपी सिंह की याचिका पर 13 दिसंबर को दिल्ली की कोर्ट में सुनवाई शुरु हुई, जज ने एपी सिंह से पूछा कि ये अपराध संज्ञेय अपराध की श्रेणी में आता है या नहीं, इस पर एपी सिंह को लगा कि उन्हें मामले में अभी और होमवर्क की जरुरत है, उन्होने तुरंत कोर्ट से समय मांग लिया, कोर्ट ने उन्हें 20 दिसंबर को अगली तारीख दी है, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में केस की अगली तारीख 17 दिसंबर है और आरोपितों को फांसी पर चढाने के लिये तिहाड़ जेल में तैयारियां चल रही है।

फांसी की प्रक्रिया शुरु
जैसे ही राष्ट्रपति दया याचिका खारिज करेंगे, तिहाड़ जेल को डेथ वारंट मिल जाएगा, फिर फांसी देने की प्रक्रिया शुरु हो जाएगी, ऐसे में अगर वकील एपी सिंह की याचिका पर दिल्ली की कोर्ट कोई बड़ा फैसला लेती है, तो ना सिर्फ फांसी कुछ दिनों के लिये टल सकती है, बल्कि निर्भया के दोस्त के भी परेशानी खड़ी हो सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here