निर्भया केस- दोषियों की क्या है आखिरी इच्छा? किससे करना चाहता है मुलाकात?

0
764
Loading...

निर्भया केस – चारों दोषियों में से एक ने मौत के डर से खाना-पीना छोड़ दिया है, जबकि दूसरा भी कम खाना खा रहा है।

एक तरफ निर्भया के साथ बर्बरता करने के दोषी फांसी की सजा को और लंबा खींचने के लिये तरह-तरह के हथकंडे अपना रहे हैं, तो दूसरी ओर तिहाड़ जेल प्रशासन अपनी कार्रवाई को आगे बढा रहा है, इसी के तहत तिहाड़ जेल ने दोषियों से उनकी आखिरी इच्छा पूरी है, जेल प्रशासन ने दोषियों को नोटिस देकर पूछा कि 1 फरवरी को तय फांसी से पहले वो आखिरी बार किससे मिलना चाहते हैं, साथ ही ये भी सवाल किया गया है कि उनके नाम कोई संपत्ति है, तो क्या वो किसी के नाम ट्रांसफर करना चाहते हैं, कोई धार्मिक किताब पढना चाहते हैं, या किसी धर्मगुरु को बुलाना चाहते हैं, इन इच्छाओं को 1 फरवरी से पहले पूरा कर सकते हैं।

फांसी से डर से छोड़ा खाना-पीना
एनबीटी की रिपोर्ट के अनुसार चारों दोषियों में से एक ने मौत के डर से खाना-पीना छोड़ दिया है, जबकि दूसरा भी कम खाना खा रहा है, जेल सूत्रों के मुताबिक विनय ने दो दिनों तक खाना नहीं खाया, बुधवार को उसे बार-बार खाना खाने के लिये कहा गया, तो थोड़ा सा खाना खाया, पवन ने खाना कम कर दिया है, मुकेश के पास फांसी से बचने के लिये जितने भी कानूनी उपाय थे, सब आजमा चुका है, इसकी दया याचिका को भी राष्ट्रपति खारिज कर चुके हैं।

32 सिक्योरिटी गार्ड
जेल सूत्रों के मुताबिक चारों दोषियों को तिहाड़ के जेल नंबर तीन में अलग-अलग सेल में रखा गया है, हर दोषी के सेल के बाहर दो सुरक्षा गार्ड हमेशा तैनात रहते हैं, इनमें से एक हिंदी और अंग्रेजी का ज्ञान नहीं रखने वाला तमिलनाडु स्पेशल पुलिस का जवान और एक तिहाड़ जेल प्रशासन का होता है, हर दो घंटे में इन गार्ड को आराम दिया जाता है, शिफ्ट बदलने पर दूसरे गार्ड तैनात किये जाते हैं, हर कैदी के 24 घंटे के लिये 8-8 सुरक्षा गार्ड लगाये गये हैं, यानी चार कैदियों के लिये कुल 32 गार्ड।

1 फरवरी को होनी है फांसी
चारों दोषियों को फांसी पर लटकाने की नई तारीख 1 फरवरी सुबह 6 बजे तय की गई है, अगर इस बीच मुकेश के अलावा अन्य तीनों में से किसी भी दोषी ने दया याचिका डाल दी, तो फिर मामला एक बार फिर से आगे बढ सकता है, ऐसे में कानूनी जानकारों का कहना है कि फिर से फांसी के लिये संभवतः नई तारीख दी जा सकती है।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here