komal ganatra2

ये कहानी है गुजरात में पैदा हुई महिला आईएएस कोमल गनात्रा की, कोमल बचपन से ही पढाई में होशियार थी, वो गुजराती भाषा में पढी, तथा उन्होने कई बार मां-बाप का नाम रोशन किया।

समाज में ऐसा माना जाता है कि लड़कियों की शादी के बाद जिंदगी पूरी हो जाती है, वो पति, ससुराल तथा बच्चों के साथ-साथ परिवार संभालें, ऐसे ही एक लड़की की शादी मां-बाप ने बड़े खुशी से की, लड़का एनआरआई था, तो मां-बाप खुश थे, कि बेटी सुख करेगी, विदेश जाएगी, पर जैसा सोचा वैसा हर बार कहां होता है, युवती की शादी तो हो गई, लेकिन 15 दिन बाद ही पति नवविवाहिता को छोड़कर भाग गया, युवती के लिये ये बहुत बड़ा झटका था, लेकिन ये लड़की टूट नहीं बल्कि मजबूत होकर खड़ी हुई, उसने यूपीएससी की तैयारी की तथा आईएएस अधिकारी बनकर अपने ऊपर छूटी हुई औरत के लगे कलंक को धो दिया।

कोमल गनात्रा
ये कहानी है गुजरात में पैदा हुई महिला आईएएस कोमल गनात्रा की, कोमल बचपन से ही पढाई में होशियार थी, वो गुजराती भाषा में पढी, तथा उन्होने कई बार मां-बाप का नाम रोशन किया, कोमल ने ग्रेजुएशन के समय ही सिविल सर्विसेज की तैयारी करना शुरु कर दिया था, कोमल के पिता ने उन्हें पढाई के लिये आगे बढने को कहा, हालांकि कोमल की मां ज्यादा पढी लिखी नहीं हैं, कोमल ने ओपन यूनिवर्सिटी से 3 भाषाओं में अलग-अलग यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया, इसके साथ ही वो पढाई भी कर रही थीं, तथा सिर्फ 1 हजार में टीचर की नौकरी कर रही थीं।

एनआरआई से शादी
इस बीच घर वालों ने कोमल की शादी एक एनआरआई से कर दी, लेकिन वो शख्स लालची था, उसने कोमल के परिवार से दहेज की मांग की, तथा पत्नी पर परीक्षा ना देने तथा पढाई ना करने का दबाव भी बनाया। हालांकि उनकी शादी जिस शख्स से हुई, वो उससे पति के रुप में प्यार भी करने लगी, इतना प्यार कि उसके लिये सरकार से लड़ पड़ी, लेकिन वो शख्स उन्हें छोड़कर जा चुका था, उनका पति आईएएस की परीक्षा तथा इंटरव्यू देने से मना कर रहा था। कोमल पर दुखों का पहाड़ टूट चुका था, वो अपने पति को वापस लाने के लिये न्यूजीलैंड की सरकार को कई लेटर लिखे, वो केस लड़ती रहीं, पति को वापस लाना है, ये सोच वो कोर्ट-कचहरी के चक्कर लगाती रही, लेकिन वो शख्स भारत लौटना ही नहीं चाहता था, उनसे पत्नी को एक फोन तक नहीं किया।

छूटी हुई औरत
कोमल तब 26 साल की थी, जब उन पर छूटी हुई औरत का कलंक लग चुका था, ससुराल तथा रिश्तेदार उन पर हंसते, ताने मारते, इस दुख तथा उदासी के बीच कोमल गनात्रा ने अपनी पढाई जारी रखी, यूपीएससी का एग्जाम क्लियर किया, फिर उनकी जिंदगी में खुशी का दिन भी आया। 2012 में उन्होने परीक्षा पास की, फिलहाल वो आईआरएस अधिकारी के रुप में काम कर रही हैं। कोमल ने दूसरी शादी कर ली, तथा आज हैप्पी मैरिड लाइफ जी रही हैं, वो एक बच्ची की मां भी हैं।

Read Also – लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला की बेटी बनी IAS, पहली बार में ही मिली सफलता