सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज का बड़ा बयान, फर्जी है एनकाउंटर, पुलिस वालों को मिले मौत की सजा

0
448
Loading...

हैदराबाद पुलिस ने आज प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि वो चारों आरोपियों को लेकर घटनास्थल पर गये थे, उन्होने आरोपियों का डीएनए भी करवाया है।

तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में बीते दिनों हुई महिला डॉक्टर के साथ सामूहिक दुष्कर्म और निर्मम हत्या के बाद आरोपियों के खिलाफ पूरे देश के लोगों में गुस्सा था, लोग जल्द से जल्द दोषियों को कड़ी सजा देने की मांग कर रहे थे, इसी बीच आज हैदराबाद पुलिस ने चारों आरोपियों को एनकाउंटर में मार गिराया, जिसके बाद लोगों ने पुलिस पर फूलों की बारिश की, लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्कंडेय काटजू ने इस पर सवाल खड़े किये हैं, उन्होने पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए इसे फर्जी एनकाउंटर कहा है।

फर्जी एनकाउंटर कहा
पूर्व जज मार्कडेय काटजू ने ट्विटर पर लिखा है, प्रकाश कदम वर्सेस राम प्रसाद विश्वनाथ गुप्ता केस में सुप्रीम कोर्टी की बेंच जिसकी अध्यक्षता मैंने की थी, उसने कहा था कि फर्जी एनकाउंटर के मामले में संबंधित पुलिस वालों को भी मौत की सजा दी जाए, हैदराबाद एनकाउंटर को भी देखकर लग रहा है कि ये साफतौर से फर्जी है।

Loading...

पुलिस ने क्या कहा
आपको बता दें कि हैदराबाद पुलिस ने आज प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि वो चारों आरोपियों को लेकर घटनास्थल पर गये थे, उन्होने आरोपियों का डीएनए भी करवाया है, घटनास्थल पर ही एक आरोपी ने पुलिस वाले से पिस्तौल छिन ली, इसके बाद बाकी तीनों आरोपियों ने सड़क से पत्थर उठा लिया, बदमाश द्वारा फायरिंग में एक एसआई और एक कांस्टेबल घायल हो गया है, जिसका इलाज जारी है, जवाबी फायरिंग में चारों आरोपी मारे गये।

सामूहिक दुष्कर्म के बाद निर्मम हत्या
मालूम हो कि 27 नवंबर की रात महिला डॉक्टर जब ड्यूटी के बाद घर लौट रही थी, तो एनएच-44 पर उनकी स्कूटी पंक्टर हो गई, जिसके बाद चारों आरोपियों मदद के बहाने महिला डॉक्टर को दबोच लिया, पहले उनके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया, फिर पेट्रोल छिड़ककर जिंदा जला दिया, इस वारदात ने पूरे देश को हिला कर रख दिया था। लोग सोशल मीडिया और दूसरे माध्यमों से अपना गुस्सा जाहिर कर रहे थे।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here