कोर्ट में घुसकर जज के सामने पिता के हत्यारोपी को गोलियों से भूना, सरेंडर कर कही ऐसी बात

0
171
Loading...

यूपी – एकाएक गोली चलने से कोर्ट परिसर में भगदड़ मच गई, वकील और दूसरे लोग भाग खड़े हुए, प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार जज ने किसी तरह मेज के पीछे छिपकर अपनी जान बचाई।

7 महीने पहले बिजनौर के नजीबाबाद में बसपा नेता और प्रॉपर्टी डीलर हाजी अहसान और उनके भांजे शादाब की हत्या के आरोपी कुख्यात शाहनबाज की बिजनौर के सीजेएम कोर्ट के भीतर गोली मारकर हत्या कर दी गई, हमले में दो पुलिस वाले भी गोली लगने से घायल हो गये हैं, तो पेशी पर लाये गये शाहनवाज का साथी जब्बार फरार हो गया। वारदात को हाजी अहसान की दूसरी पत्नी के बेटे ने अपने दो साथियों के साथ मिलकर अंजाम दिया, पुलिस ने तीनों शूटरों को गिरफ्तार कर लिया है।

कोर्ट के भीतर मारी गोली
वारदात मंगलवार दोपहर 1.40 बजे की है, बिजनौक मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट कोर्ट में अहसान और शादाब हत्याकांड के आरोपी शाहनवाज और जब्बार की पेशी हुई। कोर्ट में एक तरफ दीवार से सटकर दोनों आरोपी खड़े थे, सामने अन्य लोगों के साथ हाजी अहसान की दूसरी पत्नी रिजवाना का बेटा साहिल, किरतपुर के मोहल्ला राघड़ान निवासी अफराज पुत्र अकरम, शामली के गांव लिलौन निवासी सुमित पुत्र जयपाल भी खड़े हो गये, चश्मदीदों के मुताबिक तीनों ने पिस्टल से दोनों आरोपियों पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरु कर दी।

भगदड़ मची
एकाएक गोली चलने से कोर्ट परिसर में भगदड़ मच गई, वकील और दूसरे लोग भाग खड़े हुए, प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार जज ने किसी तरह मेज के पीछे छिपकर अपनी जान बचाई, कोर्ट में मौजूद एक पुलिस वाले ने शूटर को दबोचने की कोशिश की, तो तीनों ने उस पर भी गोली चला दी, पुलिस वाले के पैर में गोली लगी है। तभी शाहनवाज का साथी जब्बार कोर्ट रुम से फरार हो गया, वारदात को अंजाम देने को बाद तीनों ने कोर्ट में ही सरेंडर कर दिया, पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया है और सिपाही मनीष को इलाज के लिये मेरठ रेफर कर दिया है।

जब्बार की तलाश जारी
वारदात से बिजनौर में सनसनी फैल गई है, तीन हत्या आरोपियों को पुलिस थाने लेकर आई, शाहनवाज का शव पोस्टमॉर्टम के लिये जिला अस्पताल भिजवाया गया है, कोर्ट से फरार जब्बार की तलाश जारी है, एसपी संजीव त्यागी ने कहा कि कोर्ट परिसर में हत्या करने वाले तीनों आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, साथ ही जब्बार की तलाश में छापेमारी की जा रही है।

पिता की हत्या का बदला
शाहनवाज की हत्या करने वाले साहिल ने पुलिस से कहा कि उसने अपने पिता हाजी अहसान की हत्या का बदला लेने के लिये अपने साथियों के साथ इस वारदात को अंजाम दिया है, साहिल ने बताया कि वो अपने पिता हाजी अहसान की हत्या के बाद से ही बदले की आग में सुलग रहा था, उसने तभी ठान लिया था कि पिता के हत्यारे को नहीं छोड़ेगा। वो मौके का इंतजार कर रहा था, साहिल ने कहा कि उसके साथ पकड़े गये सुमित और अफराज उसके दोस्त हैं।

कोर्ट परिसर में पिस्टल कैसे लाये
तीनों एक-दूसरे को अपना दोस्त बता रहे हैं, पुलिस तीनों से ये पूछ रही है, कि कोर्ट परिसर में उनके पास पिस्टल कहां से आया, किन लोगों ने उनकी मदद की, कब से वो हत्या की योजना बना रहे थे, सूत्रों का दावा है कि तीनों हत्याकांड के बारे में ज्यादा बात नहीं कर रहे हैं, तीनों ने पहले ही तय कर लिया था कि क्या बोलना है, इसलिये तीनों एक ही सुर में बात कर रहे हैं, साहिल बस इतना कह रहा है कि उसने पिता की हत्या का बदला ले लिया।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here