हैदराबाद केस- जानिये कौन हैं वो पुलिस अधिकारी, जिसने एनकाउंटर को दिया अंजाम

0
157
Loading...

इस एनकाउंटर के बाद हर कोई पुलिस कमिश्नर सीपी सज्जनार की खुलकर तारीफ कर रहे हैं, कहा जा रहा है कि उनकी वजह से ही ये संभव हो पाया।

हैदराबाद में हुए महिला डॉक्टर के साथ हैवानियत ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था, हर तरफ लोग गुस्से में थे और हैवानों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग कर रहे थे, शुक्रवार सुबह जैसे ही ये खबर आई कि चारों आरोपियों को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया है, तो लोगों ने कहा कि पीड़िता और उनके परिवार को इंसाफ मिल गया। इसके साथ ही लोग पुलिस कमिश्नर की भी तारीफ कर रहे हैं।

पुलिस कमिश्नर की तारीफ
इस एनकाउंटर के बाद हर कोई पुलिस कमिश्नर सीपी सज्जनार की खुलकर तारीफ कर रहे हैं, कहा जा रहा है कि उनकी वजह से ही ये संभव हो पाया, सीपी सज्जनार की वजह से इस केस पर खास नजर थी, वारदात के बाद उन्होने कहा था कि जल्द से जल्द आरोपियों को गिरफ्तार करेंगे और 60 घंटे के भीतर ही पुलिस ने आरोपियों को धर दबोचा, इसके बाद एक हफ्ते के अंदर ही पुलिस ने इस घिनौने अपराध का अंत कर दिया।

2008 में भी ऐसा ही एनकाउंटर
मालूम हो कि सज्जनार का नाम पहले भी इस तरह के एनकाउंटर से जुड़ चुका है, साल 2008 में आंध्र प्रदेश के वारंगल में पुलिस ने एसिड अटैक के तीन आरोपियों को इसी तरह मार गिराया था, तब भी वारंगल के पुलिस सुपरिटेंडेंट सज्जनार ही थे, बताया जाता है कि तब भी घटना को रिक्रिएट करने के लिये तीनों आरोपियों को घटनास्थल पर ले जाया गया था, जहां से आरोपियों ने भागने की कोशिश की थी, ठीक इसी अंदाज में तब भी एनकाउंटर को अंजाम दिया गया था, अंतर सिर्फ इतना था कि खुद सज्जनार मौके पर मौजूद नहीं थे, लेकिन कहा जाता है कि इसके पीछे पूरा प्लान उनका ही था।

इस बार ऐसे हुआ एनकाउंटर
देर रात चारों आरोपियों को पुलिस घटनास्थल पर ले गई, पुलिस पूरी घटना को आरोपियों की नजर से समझना चाह रही थी, कहा जा रहा है कि इसी दौरान आरोपियों ने पुलिस गिरफ्त से भागने की कोशिश की, जिसके बाद पुलिस के सामने गोली चलाने के अलावा दूसरा कोई चारा नहीं था, चारों आरोपी मौके पर ही ढेर हो गये, जिसके बाद सभी की लाश की अस्पताल भेज दिया गया।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here