बुलेट प्रूफ जैकेट चीरती हुई निकली गोली, लेकिन ‘चमत्कार’ ने बचाई जान, जैकेट पर भारी पड़ा सिक्का

0
94
Loading...

विजेन्द्र ने बटुए को शर्ट की जेब में रख रखा था, तभी एक गोली बुलेटप्रूफ जैकेट को भेदती हुए बटुए में जा फंसी।

आपने अकसर लोगों से सुना होगा, जाको राखे साइयां मार सके ना कोय, जी हां, ये कहावत यूपी पुलिस के एक जवान के लिये सही साबित हुआ है, कांस्टेबल ने कहा कि उन्हें लग रहा है कि ये उनका दूसरा जीवन है, आइये आपको बताते हैं कि आखिर पूरा मामला क्या है, क्यों कांस्टेबल खुद कह रहा है, कि ये उनका दूसरा जीवन है।

विरोध प्रदर्शन के दौरान मारी गोली
दरअसल नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ यूपी के कई जिलो में प्रदर्शन हो रहा है, फिरोजाबाद में सीएए के खिलाफ शुक्रवार को हिंसक प्रदर्शन के दौरान बुलेटप्रूफ जैकेट पहने एक पुलिस कर्मी को गोली मारी गई, लेकिन बटुए में रखे सिक्कों की वजह से इस पुलिस वाले की जान बच गई, मीडिया रिपोर्ट के अनुसार कांस्टेबल विजेन्द्र कुमार अपनी टीम के साथ सुरक्षा में तैनात थे, उन्होने बुलेट प्रूफ जैकेट पहन रखा था, इसके बावजूद एक गोली उनके जैकेट को चिरती हुई उनके बटुए में फंस गई, जिसकी वजह से उनकी जान बची।

Loading...

बटुए में फंसी गोली
रिपोर्ट के अनुसार विजेन्द्र ने बटुए को शर्ट की जेब में रख रखा था, तभी एक गोली बुलेटप्रूफ जैकेट को भेदती हुए बटुए में जा फंसी, विजेन्द्र ने कहा कि उनके बटुए में कई सिक्के थे, यही वजह है कि गोली जैकेट को भेदने के बाद सिक्कों को नहीं छेद सकी और उनकी जान बच गई, कांस्टेबल विजेन्द्र कुमार ने कहा कि उन्हें वास्तव में लग रहा है, कि ये उनका दूसरा जीवन है।

पुलिस पर पथराव
फिरोजाबाद में शुक्रवार को नागरिकता कानून के खिलाफ हिंसक विरोध प्रदर्शन किया गया, पुलिस वाहनों में तोड़फोड़ और आगजनी की गई, प्रदर्शन कर रहे लोगों की ओर से फायरिंग भी की गई, एक पुलिस चौकी को आग के हवाले कर दिा गया, जुम्मे की नमाज के बाद छोटे-छोटे गुट बनाकर उतरे प्रदर्शनकारियों ने नालबंद पुलिस चौकी में आग लगी दी और चौकी के बाहर खड़ी गाड़ियों को भी नुकसान पहुंचाया।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here