मदद की गुहार मांगने थाने पहुंची थी महिला, पुलिस ने रखी शर्त पहले हमबिस्तर…

0
13
Loading...

वी़डियो देखने के लिये नीचे जाएं
महिला ने बताया कि तत्कालीन थाना अध्यक्ष राज किशोर मंडल ने उनकी शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की, कई दिनों तक पीड़िता ने थाने के चक्कर भी लगाये।

हैदराबाद में महिला वेनटरी डॉक्टर के साथ हुई हैवानियत ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है, डॉक्टर के परिजन पुलिस पर लापरवाही और टाल मटोल का आरोप लगा रहे हैं, कुछ दिन पहले बिहार पुलिस की रंगीन मिजाजी का भी एक मामला सामने आया था, ये घटना मधेपुरा जिले की है, जहां एक दरोगा पुलिसिया कार्रवाई के बदले महिला के सामने ऐसी शर्त रखी कि उसे मीडिया से गुहार लगाने को मजबूर होना पड़ा, मधेपुरा के इस रंगीन मिजाज दरोगा की ऑडियो क्लिप तमाम न्यूज चैनलों पर चला था।

30 बार की गंदी बात
मधेपुरा के चौसा थाने के थानेदार धनेश्वर मंडल एक महिला को केस में मदद करने के नाम पर उसके साथ रात गुजारने की मांग कर रहे थे, महिला ने अपने आरोपों को सही साबित करने के लिये शपथ पत्र बनवाकर मीडिया को दरोगा से बातचीत का ऑडियो क्लिप भी उपलब्ध कराया, करीब 120 मिनट के ऑडियो क्लिप में दरोगा तीस बार गंदी बातें की ।

पति को छोड़ किया था प्रेम विवाह
चौसा थाना इलाके के पीड़िता महिला पहले से विवाहित थी, वो अपने पति के साथ चौसा बाजार में छोटा-मोटा होटल (ढाबा) चलाती थी, इसी दौरान होटल के सामने एक कंप्यूटर शिक्षण केन्द्र चलाने वाले मो. मोजिम से उसे प्यार हो गया, कुछ दिन बाद उसने पति को छोड़ मोजिम से शादी कर ली और उसके साथ रहने लगी, करीब तीन साल साथ रहने के बाद मोजिम ने उसका साथ छोड़ दिया, प्यार के लिये पति को छोड़ने वाली महिला को दूसरे पति ने घर से भगा दिया, जिसके बाद महिला ने चौसा थाने पहुंचकर मोजिम के खिलाफ बलात्कार और यौन शोषण का आवेदन किया।

एक हुआ सस्पेंड तो दूजे ने की कोशिश
महिला ने बताया कि तत्कालीन थाना अध्यक्ष राज किशोर मंडल ने उनकी शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की, कई दिनों तक पीड़िता ने थाने के चक्कर भी लगाये, लेकिन पुलिस सिर्फ आश्वासन देती रही, इस बीच एक दूसरे मामले में राज किशोर मंडल सस्पेंड हो गया, और धनेश्वर मंडल थाना अध्यक्ष बन गया, महिला का आरोप है कि धनेश्वर ने एफआईआर पर कार्रवाई करने के लिये उसे अपने पास गंदी नियत से बुलाया और उससे फोन पर गंदी बातें की।

ऑडियो वायरल
आरोपों को लेकर पीड़िता ने मीडिया को कुछ ऑडियो क्लिप भी उपलब्ध कराये हैं, जिस महिला से मात्र दो महीने में दरोगा ने तीस से ज्यादा बार मोबाइल पर बात की, हालांकि मामला मीडिया में आने के बाद दरोगा ने महिला को पहचानने के लिये इंकार कर दिया, ऑडियो वायरल होने के बाद से वरीय अधिकारी भी कुछ भी बोलने से बच रहे हैं, लेकिन मोबाइल पर हो रही बातचीत में थानेदार के खिलाफ कार्रवाई की बात कह रहे हैं।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here