अलीगढ – ये महिलाएं अपने पति के सामने सच बोलने में झिझकने लगी, लेकिन कुछ देर बाद ही उन्होने सारा सच बता दिया।

दिल्ली के शाहीन बाग के बाद यूपी के अलीगढ में भी महिलाओं का धरना प्रदर्शन सुर्खियों में हैं, यहां पिछले करीब डेढ महीने से सैकड़ों स्थानीय महिलाएं सीएए और एनपीआर के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रही हैं, पुरानी चुंगी, शाहजमाल और जीवनगढ इलाके में धरना देकर महिलाएं लगातार सुर्खियों में है, जब इन महिलाओं से पूछताछ की गई, तो उन्होने कई चौंकाने वाले खुलासे किये।

पति भेजता था
एसीएम रंजीत सिंह ने बताया कि उन्होने और इलाके के सीओ अनिल समानियां ने सोमवार को धरने में शामिल कुछ महिलाओं के घर जाने का फैसला लिया, उन्होने महिलाओं से धरना-प्रदर्शन को लेकर बातचीत की, तो महिलाओं ने बताया कि उनके पति उन्हें जबरदस्ती धरने के लिये भेजते हैं।

पति के सामने बोलने से झिझकने लगी
हालांकि ये महिलाएं अपने पति के सामने सच बोलने में झिझकने लगी, लेकिन कुछ देर बाद ही उन्होने सारा सच बता दिया, महिलाओं ने बताया कि घरने में शामिल महिलाएं नगला पटवारी, फिरदौस नगर, भमोला, जीवनगढ और रेलवे लाइन के पास झुग्गियों की रहने वाली हैं।

पुलिस को शक
आपको बता दें कि पिछले डेढ महीने से चल रहे धरना प्रदर्शन को लेकर पुलिस सतर्क है, पुलिस ने अपने स्तर पर इन महिलाओं की जांच शुरु की, तो कई चीजें सामने आई, खुफिया एजेंसियों के इनपुट के बाद पुलिस प्रशासन के अधिकारियों ने इन महिलाओं को चिन्हित करना शुरु किया।

नोटिस जारी
बताया जा रहा है कि इन सभी को शांतिभंग के नोटिस भेजे जाएंगे, महिलाओं ने बताया कि खाना और पैसे का लालच देकर उन्हें धरने पर बैठाया जा रहा था, फिलहाल पुलिस धरने पर भेजने वाले तथा भोजन-पैसे बांटने वालों का पता लगाने में जुट गई है, इन लोगों को जल्द ही नोटिस भेजकर जवाब मांगा जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here