इस विश्वकप में शेफाली ने अपनी बल्लेबाजी से सबको प्रभावित किया है, श्रीलंका के खिलाफ भी वो पूरे रंग में दिख रही थी।

भारतीय टीम ने टी-20 विश्वकप के अपने आखिरी लीग मुकाबले में श्रीलंकाई टीम को धूल चटाते हुए अपने विजयी अभियान को जारी रखा, टीम इंडिया शुरुआत से ही मैच पर हावी दिखी, श्रीलंका की टीम पहले बल्लेबाजी करते हुए सिर्फ 113 रन ही बना सकी, जिसे हरमनप्रीत कौर की टीम ने सिर्फ 14.4 ओवर में 3 विकेट खोकर हासिल कर लिया, मुकाबला बिल्कुल एकतरफा लगा।

राधा ने नचाया
आपको बता दें कि इस विश्वकप में भारतीय टीम पहली बार पहले फल्डिंग करने उतरी, टीम इंडिया पहले ही ओवर से श्रीलंका पर हावी दिखी, स्पिन गेंदबाज राधा यादव ने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 23 रन देकर 4 विकेट झटके, उन्होने किसी भी श्रीलंकाई बल्लेबाज को बड़ी पारी नहीं खेलने दिया।

114 का लक्ष्य
टीम इंडिया के सामने 114 रनों का छोटा लक्ष्य था, टीम के सलामी बल्लेबाज शेफाली वर्मा और स्मृति मंधाना (12 गेंद में 17 रन) के शुरुआत से ही ताबड़तोड़ बल्लेबाजी शुरु कर दी, दोनों ने पहले विकेट के लिये 34 रन जोड़े, स्मृति के आउट होने के बाद क्रीज पर कप्तान हरमनप्रीत कौर आई, उनका बल्ला इस विश्वकप में अब तक शांत रहा है, उन्होने भी आते ही तेवर दिखाने शुरु किये, 2 चौके और 1 छक्के की मदद से 14 गेंद में 15 रन बनाकर वो भी आउट हो गई।

शेफाली अर्धशतक से चूकी
आपको बता दें कि इस विश्वकप में शेफाली ने अपनी बल्लेबाजी से सबको प्रभावित किया है, श्रीलंका के खिलाफ भी वो पूरे रंग में दिख रही थी, लेकिन 47 रन के स्कोर पर रन आउट होकर पवेलियन लौटी, इस विश्वकप के चारों ही मुकाबलों में शेफाली भारतीय टीम की ओर से टॉप स्कोरर रही हैं, शेफाली के आउट होने के बाद जेमिमा रोड्रिग्स (15 रन) और दीप्ति शर्मा (15 रन) ने टीम को लक्ष्य तक पहुंचा दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here