हार के बाद भड़के विराट कोहली, अपने ही खिलाड़ियों पर उठाये सवाल, इंटरनेशनल मैच के लायक

0
1754
Loading...

विराट कोहली ने तीसरे मैच में मिली हार के बाद अपने खिलाड़ियों की फील्डिंग पर सवाल खड़े किये, उन्होने तो यहां तक कह दिया, कि टीम की फील्डिंग अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लायक नहीं थी।

टी-20 सीरीज में न्यूजीलैंड को 5-0 से धोने के बाद भारतीय टीम का वनडे सीरीज में सूपड़ा साफ हो गया है, टीम इंडिया को तीन मैचों की सीरीज में एक भी जीत नसीब नहीं हुई, वनडे सीरीज में मेजबानों ने वापसी करते हुए भारत को 3-0 से हराया है। इस हार से तिलमिलाये कप्तान साहब काफी खफा नजर आये, उन्होने इशारों ही इशारों में गेंदबाजों और फील्डरों को खूब खरी-खोटी सुनाई।

फील्डिंग पर सवाल
विराट कोहली ने तीसरे मैच में मिली हार के बाद अपने खिलाड़ियों की फील्डिंग पर सवाल खड़े किये, उन्होने तो यहां तक कह दिया, कि टीम की फील्डिंग अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लायक नहीं थी, कप्तान ने कहा कि मुझे लगता है कि पहले वनडे में हमने अच्छा प्रदर्शन किया था, लेकिन तीनों ही मुकाबलों में जैसी हमने फील्डिंग की, वो इंटरनेशनल क्रिकेट के लायक नहीं थी, साथ ही कप्तान ने गेंदबाजों पर भी सवाल खड़े किये, उन्होने कहा कि खराब गेंदबाजी की वजह से टीम को क्लीन स्वीप झेलनी पड़ी।

मेजबान जीत के हकदार
वनडे सीरीज में 3-0 से हार के बाद कप्तान कोहली ने कहा कि मेजबान टीम जीत की हकदार थी, टी-20 सीरीज गंवाने के बाद न्यूजीलैंड ने ज्यादा अच्छा क्रिकेट खेला, वो वनडे सीरीज जीतने के हकदार थे, हमने टी-20 सीरीज में अच्छा खेला था, लेकिन वनडे में हम नये खिलाड़ियों के साथ उतरे, ये उनके लिये अच्छा अनुभव रहा।

टेस्ट सीरीज पर नजर
आपको बता दें कि इसी महीने 21 फरवरी से टेस्ट सीरीज खेला जाना है, दो मैचों की सीरीज पर विराट ने कहा कि अब हमारी नजर टेस्ट सीरीज पर है, टेस्ट चैंपियनशिप के लिहाज से दोनों मैच अहम हैं, हमारी टीम काफी संतुलित है, हमें उम्मीद है कि हम टेस्ट सीरीज जीत सकते हैं, बस हमें सही मानसिकता से मैदान में उतरने की जरुरत है।

कप्तान का बल्ला खामोश
मालूम हो कि भले विराट खराब फील्डिंग और गेंदबाजी को हार की वजह बता रहे हों, लेकिन उनका भी बल्ला खामोश रहा है, वनडे सीरीज में उन्होने सिर्फ 25 से औसत से 75 रन बनाये, इसके साथ ही वनडे सीरीज में कप्तानी और प्लेइंग इलेवन चयन को लेकर भी अजीबोगरीब फैसले लिये, खराब फॉर्म के बावजूद शार्दुल को तीनों मैचों में मौका दिया, जिन्होने 3 मैचों में 222 रन लुटा दिये, साथ ही टी-20 सीरीज में भी विराट का बल्ला शांत रहा, उन्होने 4 मैचों में 26.25 के औसत से 105 रन बनाये।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here