hockey team

मुकाबले में जर्मनी ने बेहद आक्रामक शुरुआत की, दूसरे मिनट में ही जर्मनी के उरुज ने गोल कर टीम को 1-0 से बढत दिलाई, पहले क्वार्टर तक जर्मनी की टीम 1-0 से आगे थी।

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने टोक्यो में इतिहास रच दिया है, टीम ने ब्रांज मेडल के मुकाबले में जर्मनी को 5-4 से हराया, हॉकी टीम ने 1980 के बाद मेडल जीता है, ये ओवरऑल ओलंपिक इतिहास में भारतीय टीम का 12वां मेडल है, मैच में एक समय भारतीय टीम 1-3 से पीछे चल रही थी, इसके बाद भी शानदार वापसी करते हुए मुकाबला जीत लिया, महिला हॉकी टीम भी मेडल की रेस में है, उन्हें भी ब्रांज का मुकाबला शुक्रवार को खेलना है।

आक्रामक शुरुआत
मुकाबले में जर्मनी ने बेहद आक्रामक शुरुआत की, दूसरे मिनट में ही जर्मनी के उरुज ने गोल कर टीम को 1-0 से बढत दिलाई, पहले क्वार्टर तक जर्मनी की टीम 1-0 से आगे थी, 17वें मिनट में सिमरनजीत सिंह ने गोल कर स्कोर 1-1 से बराबर कर दिया, फिर जर्मनी की ओर से 24वें मिनट में बेनिडिट फुर्क ने गोल करके टीम को 3-1 से बढत दिलाई।

दूसरे क्वार्टर में 5 गोल
दो गोल से पिछड़ने के बाद टीम इंडिया ने शानदार वापसी की, 27वें मिनट में हार्दिक सिंह ने कॉर्नर रुकने के बाद शानदार गोल किया, फिर 29वें मिनट में हरमनप्रीत ने गोल करके स्कोर 3-3 से बराबर कर लिया, दूसरे क्वार्टर में कुल 5 गोल हुए, तीसरे क्वार्टर में भी भारतीय टीम ने हमले जारी रखे, 31वें मिनट में पेनल्टी स्ट्रोक पर रुपिंदर पाल सिंह ने गोल करके स्कोर 4-3 से आगे कर दिया, 34वें मिनट में सिमरनजीत ने अपना दूसरा गोल कर स्कोर 5-3 कर दिया, तीसरे क्वार्टर के बाद भारत के पास 5-3 की बढत रही।

अंतिम क्वार्टर में जर्मनी ने डराया
मैच के अंतिम क्वार्टर में भारत और जर्मनी दोनों ने हमले किये, 48वें मिनट में लुका विनफेडर ने गोल करके 4-5 कर दिया, हालांकि इसके बाद दोनों ही टीमें गोल नहीं कर सकी, भारत ने मुकाबला 5-4 से अपने नाम कर लिया, जर्मनी की टीम पिछले 4 ओलंपिक से मेडल जीत रही थी।

Read Also – विनेश फोगाट गोल्ड की दावेदार, लेकिन अब तक नहीं पहुंची टोक्यो, जानिये पूरा मामला