team india (1)

युजवेन्द्र चहल टी-20 इंटरनेशनल में भारत की ओर से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं, वो 49 मैचों में 63 विकेट ले चुके हैं।

टी-20 विश्वकप के लिये 15 सदस्यीय टीम इंडिया की घोषणा हो गई है, लेकिन टूर्नामेंट के लिये कई बड़े चेहरे को टीम में जगह नहीं मिली है, इसमें सबसे बड़ा नाम लेग स्पिनर युजवेन्द्र चहल का है, वो टी-20 इंटरनेशनल में भारतीय टीम की ओर से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं, इसके अलावा पृथ्वी शॉ, शिखर धवन, क्रुणाल पंड्या और वॉशिंगटन सुंदर को भी बाहर रखा गया है।

चहल टीम से बाहर
युजवेन्द्र चहल टी-20 इंटरनेशनल में भारत की ओर से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं, वो 49 मैचों में 63 विकेट ले चुके हैं, 2 बार 4 और एक बार 5 विकेट झटके हैं, इकोनॉमी 8 से ऊपर की है, 31 साल के इस गेंदबाज के ओवरऑल टी-20 करियर की बात करें, तो वो 207 मैचों में 227 विकेट ले चुके हैं, यानी इनके पास बड़ा अनुभव है, हालांकि पिछले कुछ समय से उनका प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा है, जिस वजह से उन्हें मौका नहीं मिला।

धवन के स्ट्राइक रेट पर सवाल
सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने 68 टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में भारत की ओर से 1759 रन जरुर बनाये हैं, 11 अर्धशतक भी लगाये हैं, लेकिन 35 वर्षीय बल्लेबाज का स्ट्राइक रेट सबसे बड़ी परेशानी है, वो सिर्फ 126 के स्ट्राइक रेट से रन बनाते हैं, ओवरऑल 295 टी-20 में उनका स्ट्राइक रेट 125 का है। वहीं युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ आईपीएल में अच्छी फॉर्म में थे, दूसरे युवा बल्लेबाज ईशान किशन ने इंग्लैंड के खिलाफ शानदार प्रदर्शन करके खुद को आगे कर लिया था, 23 साल के ईशान किशन ने 3 टी-20 मैचों में 40 से औसत से 80 रन बनाये हैं, स्ट्राइक रेट 145 का है, उन्होने अपने पहले ही इंटरनेशनल मुकाबले में पचासा लगाया था।

चोट के कारण सुंदर का पत्ता कटा
ऑफ स्पिनर वॉशिंगटन सुंदर का विश्वकप में खेलना तय था, लेकिन इंग्लैंड दौरे पर वो चोटिल हो गये, इस कारण आईपीएल के दूसरे चरण के मुकाबले में भी नहीं उतरेंगे, ऐसे में अगर वो फिट भी हो जाते हैं,  तो बिना मैच प्रैक्टिस के विश्वकप जैसे बड़े टूर्नामेंट में उन्हें उतारना अच्छा नहीं रहता, 21 साल के सुंदर 31 टी-20 इंटरनेशनल में 25 विकेट ले चुके हैं, उनके ओवरऑल टी-20 करियर की बात करें, तो वो 98 मैचों में 74 विकेट झटक चुके हैं। बतौर स्पिन ऑलराउंडर क्रुणाल पंड्या भी रेस में थे, लेकिन जडेजा के कारण उन्हें मौका मिलना आसान नहीं था।

Read Also – ट्रेन से रोज मुंबई जाना, वजन से थे परेशान, दिलचस्प है शार्दुल ठाकुर के टीम इंडिया तक का सफर