सौराष्ट्र के अध्यक्ष ने कहा कि अगर बीसीसीआई चाहती है कि लोग घरेलू क्रिकेट देखने आये, तो रणजी ट्रॉफी के फाइनल को किसी अंतरराष्ट्रीय मैच के साथ नहीं रखना चाहिये।

9 मार्च से रणजी ट्रॉफी 2019-20 का फाइनल मुकाबला बंगाल और सौराष्ट्र के बीच खेला जाएगा, इस मुकाबले में सौराष्ट्र की ओर से चेतेश्वर पुजारा, तो बंगाल की ओर से ऋद्धिमान साहा खेलेंगे, सौराष्ट्र की टीम सेमीफाइनल में गुजरात को, तो बंगाल की टीम कर्नाटक को हराकर फाइनल में पहुंची है, सौराष्ट्र क्रिकेट बोर्ड चाहता था कि टीम इंडिया के ऑलराउंडर रविन्द्र जडेजा भी फाइनल में उनकी टीम का हिस्सा हों, लेकिन बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने इससे साफ इंकार कर दिया है।

गांगुली ने ठुकराई अपील
इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार सौराष्ट्र क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष जयदेव शाह ने बीसीसीआई से अपील की थी कि जडेजा को रणजी ट्रॉफी फाइनल खेलने की अनुमति दी जाए, लेकिन बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने ऐसा करने से साफ मना कर दिया, दरअसल जडेजा 12 मार्च से दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ होने वाले वनडे सीरीज में टीम का हिस्सा हो सकते हैं, इसी वजह से गांगुली ने मना कर दिया।

देश पहले
जयदेव शाह ने बताया कि मैंने सौरव गांगुली से बात कि तो उन्होने कहा कि जडेजा रणजी ट्रॉफी फाइनल नहीं खेल पाएंगे, क्योंकि देश हर खिलाड़ी की पहली प्राथमिकता है, हालांकि इस फैसले से निराशा जयदेव शाह ने कहा कि घरेलू क्रिकेट के सबसे बड़े टूर्नामेंट का शेड्यूल ये ध्यान में रखते हुए तय किया जाना चाहिये, कि वो किसी अंतरराष्ट्रीय सीरीज के साथ ना टकराये।

सौराष्ट्र की टीम निराश
सौराष्ट्र के अध्यक्ष ने कहा कि अगर बीसीसीआई चाहती है कि लोग घरेलू क्रिकेट देखने आये, तो रणजी ट्रॉफी के फाइनल को किसी अंतरराष्ट्रीय मैच के साथ नहीं रखना चाहिये, क्या बीसीसीआई कोई आईपीएल मैच रखेगी, नहीं क्योंकि उससे पैसा आता है, रणजी ट्रॉफी में इंटरनेशनल खिलाड़ी खेलें, तभी लोग मैच देखने आएंगे, खासकर फाइनल मुकाबला, अगर जडेजा हमारी टीम से खेलते, तो हमें मजबूती मिलती, घरेलू मैदान पर खिताब जीतने का अच्छा मौका होगा, हालांकि पुजारा के टीम का हिस्सा बनने से वो खुश हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here