cricket

जवाब में मामूली लक्ष्य का पीछा करने उतरी मुंबई की टीम ने पहले ओवर की 4 गेंदों में ही जीत हासिल कर ली।

क्रिकेट को अनिश्चितताओं का खेल कहा जाता है, इसकी मिसाल कई बार देखने को भी मिल चुकी है, कई बार ऐसा होता है, कि एक टीम बहुत बड़ा स्कोर बनाकर कीर्तिमान खड़ी कर देती है, तो कई बार किसी टीम की बल्लेबाजी पूरी तरह से बिखर जाती है और शर्मनाक रिकॉर्ड बन जाता है।

महिला टीम
कुछ ऐसा ही भारतीय घरेलू क्रिकेट में भी देखने को मिला है, सीनियर महिला वनडे टूर्नामेंट के दौरान एक मैच में ऐसा ही कुछ हाल देखने को मिला है, इस मैच की सबसे अजीबो-गरीब बात ये रही, कि ये क्रिकेट इतिहास के सबसे जल्दी खत्म होने वाले मैचों में शामिल हो चुका है। दरअसल इंदौर के होलकर स्टेडियम में नागालैंड और मुंबई की टीम आमने-सामने थी, इस दौरान पहली बल्लेबाजी करने उतरी नागालैंड की महिला क्रिकेट टीम सिर्फ 17 रन ही बना सकी, जो कि किसी भी टीम द्वारा बनाया गया बेहद कम और शर्मनाक स्कोर है।

मामूली लक्ष्य
जवाब में मामूली लक्ष्य का पीछा करने उतरी मुंबई की टीम ने पहले ओवर की 4 गेंदों में ही जीत हासिल कर ली, इस मैच में सबसे हैरान करने वाली जो बात रही, वो ये कि नागालैंड की पूरी टीम क्रीज पर ज्यादा समय नहीं बिता सकी। पहले बल्लेबाजी के लिये उतरी नागालैंड की टीम की ओर से कोई भी बल्लेबाज डबल डिजिट में रन नहीं बना सकी, टीम की 11 में से 6 खिलाड़ियों ने तो खाता भी नहीं खोला, नागालैंड की बल्लेबाज सरीबा ने सबसे ज्यादा 9 रन बनाये, जो टीम के मामूली स्कोर में सबसे ज्यादा था।

4 गेंद में मैच खत्म
नागालैंड से मिले सिर्फ 18 रन के लक्ष्य को ईशा ओझा और वरुशाली की सलामी जोड़ी ने सिर्फ 4 गेंदों में ही अपनी टीम को जीत दिला दी, ईशा ने 4 गेंद पर 13 रन बनाये और वहीं वरुशाली ने 1 गेंद पर छक्का लगाकर जीत दिला दी।

Read Also – सूर्यकुमार यादव ने पहली ही पारी में लगाई रिकॉर्ड्स की झड़ी, रोहित ने की विराट कोहली की बराबरी!