वीरु ने कहा कि उस समय रोहित शर्मा को मिडिल ऑर्डर में मौके देने थे, इसलिये शीर्ष क्रम में रोटेशन पॉलिसी लाने की बात हुई थी।

14 जनवरी 2020 मुंबई वनडे, इस मुकाबले में युवा बल्लेबाज ऋषभ पंत के सिर में गेंज लगी थी, जिसकी वजह से उन्हें एक मैच में आराम देने की सलाह दी गई, लेकिन अब टीम प्रबंधन इस मुकाबले के बाद पंत को जिस तरह से ट्रीट कर रही है, लगता है उन्हें ढंग से ही आराम दे दिया गया है, पंत ने मुंबई वनडे के बाद कोई अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेला है, विराट कोहली ने केएल राहुल को विकेटकीपर बना दिया है, इस वजह से पंत प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं पा रहे हैं, ऋषभ को मौके नहीं मिलने से पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेन्द्र सहवाग निराश हैं, उन्होने टीम प्रबंधन पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर पंत को बाहर रखेंगे, तो वो रन कैसे बनाएंगे।

सहवाग ने खड़े किये सवाल
ऋषभ पंत को जब चौथे टी-20 में भी मौका नहीं दिया गया, तो वीरु ने क्रिकबज से बात करते हुए सवाल खड़े किये, उन्होने कहा कि सचिन तेंदुलकर को भी बाहर बिठा कर रखोगे ना तो वो भी रन नहीं बना सकते, बाहर बैठकर पानी ही पिला सकते हैं, विराट कोहली खुद कहते हैं कि पंत एक मैच विनर है, लेकिन वो उन्हें मौके ही नहीं दे रहे, शायद ये मानना है कि वो लगातार रन नहीं बना रहे।

पंत तीनों फॉर्मेट में
वीरु ने आगे कहा ऋषभ पंत तीनों प्रारुप खेलते हैं, ऐसा मुमकिन नहीं है कि कोई खिलाड़ी तीनों प्रारुप में लगातार रन बनाये, वो एक प्रारुप में फ्लॉप जरुर होता है, इसके बाद सहवाग ने कप्तान विराट कोहली पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि शायद वो खिलाड़ियों से बात नहीं करते, वीरु ने कहा कि हमारे समय में जब कप्तान सौरव गांगुली थे, कुंबले थे या राहुल द्रविड़ रहे हों, वो खिलाड़ियों से बात करते थे, मैं इस टीम का हिस्सा नहीं हूं, तो मुझे नहीं पता कि विराट बात करते हैं या नहीं, लेकिन रोहित के बारे में ये कहा जाता है कि जब वो एशिया कप में कप्तान बने थे, तो उन्होने खिलाड़ियों से बात करनी शुरु की, खिलाड़ियों में असुरक्षा का भाव है, वो तभी अच्छा महसूस करेंगे जब उनसे बात की जाएगी, मीडिया में जाकर कप्तान कुछ भी कहे, लेकिन उसके बाद कोच और कप्तान को खिलाड़ियों से बात करनी चाहिये।

धोनी पर निशाना
सहवाग ने पूर्व कप्तान धोनी पर भी निशाना साधा, उनकी कप्तानी पर सवाल खड़े किये, उन्होने आरोप लगाया कि धोनी मीडिया में कुछ और कहते थे, टीम मीटिंग में अलग बात करते थे, वीरु ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया में माही ने कहा कि हमारे शीर्ष तीन बल्लेबाज धीमे फील्डर हैं, हमसे तो उन्होने ना ही पूछा और ना कुछ बताया, हमें मीडिया से ही पता चला, वो मीडिया में बोलकर आ गये, लेकिन ये बात उन्होने टीम मीटिंग में नहीं कही, टीम की बैठक में धोनी ने कुछ और ही बात कही थी।

रोहित शर्मा को मौका
वीरु ने कहा कि उस समय रोहित शर्मा को मिडिल ऑर्डर में मौके देने थे, इसलिये शीर्ष क्रम में रोटेशन पॉलिसी लाने की बात हुई थी, कि टॉप तीन में से एक बल्लेबाज बाहर बैठेगा, तो रोहित शर्मा के लिये जगह बनेगी, टीम बैठक की बात ये थी, लेकिन धोनी ने मीडिया में कहा कि तीनों खिलाड़ी धीमे फील्डर हैं, इसलिये इन्हें एक साथ मौका नहीं दे सकते।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here