रणजी ट्रॉफी इतिहास का सबसे बड़ा विवाद, शुभमन गिल ने आउट होने के बाद किया ऐसा काम

0
178
Loading...

नीतीश राणा की अगुवाई वाली दिल्ली की टीम मैदान छोड़कर जाने लगी, कप्तान नीतीश ने आरोप लगाया कि शुभमन गिल ने अंपायर को गाली तक दी।

रणजी ट्रॉफी में शुक्रवार को शुरु हुए दिल्ली और पंजाब के बीच मुकाबले में बड़ा विवाद हो गया, दोनों टीमों के बीच खेले जा रहे, इस मुकाबले में टीम इंडिया के लिये खेल चुके युवा बल्लेबाज शुभमन गिल ने अंपायर द्वारा आउट दिये जाने के बावजूद मैदान छोड़ने से इंकार कर दिया, चौथे दौर का ये मुकाबला मोहाली में खेला जा रहा था, पंजाब के बल्लेबाज शुभमन गिल को अंपायर ने विकेट के पीछे आउट करार दिया, हालांकि इसके बाद भी गिल अपनी जगह से नहीं हिले, और मैदान छोड़कर नहीं गये, जिसके बाद अंपायर ने अपना फैसला बदल लिया, इसके बाद दिल्ली के गेंदबाजों ने गेंदबाजी करने से इंकार कर दिया।

23 रन बनाकर आउट हुए गिल
रिपोर्ट के मुताबिक नीतीश राणा की अगुवाई वाली दिल्ली की टीम मैदान छोड़कर जाने लगी, कप्तान नीतीश ने आरोप लगाया कि शुभमन गिल ने अंपायर को गाली तक दी, इसके बाद मैच रेफरी के दखल के बाद दोबारा मैच शुरु हुआ, गिल 41 गेंद में 23 रन बनाकर आउट हुए। सिमरजीत सिंह की गेंद पर विकेटकीपर अनुज रावत ने उनका कैच पकड़ा।

Loading...

आउट को लेकर विवाद
आपको बता दें कि ये कोई पहला मौका नहीं है, जब रणजी ट्रॉफी में अंपायर के फैसले से टीमें नाखुश रही हो, इससे पहले पिछले सत्र में सौराष्ट्र के बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा को भी मैदानी अंपायर ने नॉट आउट करार दिया था, जबकि गेंद साफतौर से उनके बल्ले का किनारा लेते हुए फिल्डर के हाथ में गई थी, इस सत्र के पहले दौर में भी मुंबई के खिलाफ बड़ौदा के बल्लेबाज यूसूफ पठान ने अंपायर द्वारा आउट दिये जाने पर नाराजगी जाहिर की थी, उनका कहना था कि गेंद उनके बल्ले और पैड पर लगकर शॉर्ट लेग पर खड़े फिल्डर के हाथ में नहीं गई थी।

डीआरएस की मांग
अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की तरह ही रणजी ट्रॉफी में भी डिसीजन रिव्यू सिस्टम की मांग लंबे समय से की जा रही है, पिछले कुछ सीजन में अंपायरों ने काफी बड़ी गलतियां की, जिसका खामियाजा टीमों को भुगतना पड़ा, इन फैसलों का असर मैच के नतीजों पर भी पड़ा।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here