तेज गेंदबाज ने बताया कि उनके दिमाग में कई बातें घूम रही थी, तभी उनकी नजर कार में रखी बच्चों की तस्वीर पर पड़ी, जिनके चेहरे पर मुस्कुराहट थी।

पिछले कुछ महीनों में ऐसी कई खबरें आई है, जिसमें क्रिकेटर मानसिक परेशानी से जूझ रहे हैं, कुछ दिनों पहले ही दिग्गज कंगारु खिलाड़ी ने मानसिक परेशानी की वजह से ब्रेक लिया था, भारत में भी एक पूर्व क्रिकेटर ऐसी ही परेशानी से गुजर रहे हैं, कभी अपनी स्विंग से दिग्गज बल्लेबाजों को परेशान करने वाली प्रवीण कुमार इन दिनों मानसिक परेशानी से जूझ रहे हैं, हालांकि उन्होने परेशानी को छिपाने के बजाय थैरेपी लेना शुरु किया है।

सुसाइड करने निकले
इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक टीम इंडिया के लिये 84 इंटरनेशनल मैच खेल चुके तेज गेंदबाज ने 2 महीने पहले आत्महत्या करने की सोची थी, वो घर से पिस्टल लेकर निकले थे, हालांकि फिर उन्होने अपना इरादा बदल लिया, प्रवीण टीम इंडिया से पिछले 8 साल से बाहर हैं, वो लगातार वापसी की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन वापसी नहीं हो पा रही है, इसी वजह से निराश होकर उनके मन में जान देने का ख्याल आया था।

पिस्टल लेकर हाइवे पर पहुंचे
करीब दो महीने पहले मेरठ में एक सर्द सुबह प्रवीण घर वालों को बिना कुछ बताये अपना पिस्टल और गाड़ी लेकर हरिद्वार हाइवे पर आ गये, वो जीवन से इतने निराश हो चुके थे, कि उन्होने अपने आप को गोली मारने का फैसला ले लिया, वो गाड़ी में ही बैठे रहे, पिस्टल उनके बगल में ही रखी थी, लेकिन कुछ देर के बाद उन्होने अपना इरादा बदल लिया।

बच्चों की तस्वीर देख बदल लिया इरादा
तेज गेंदबाज ने बताया कि उनके दिमाग में कई बातें घूम रही थी, तभी उनकी नजर कार में रखी बच्चों की तस्वीर पर पड़ी, जिनके चेहरे पर मुस्कुराहट थी, उस तस्वीर को देखने के बाद उन्हें महसूस हुआ कि उनका इरादा गलत है, जिसके बाद वो वापस घर चले आये। आपको बता दें कि 33 वर्षीय प्रवीण अवसाद से बाहर निकलने के लिये थैरेपी ले रहे हैं, वो डॉक्टर की सलाह के बाद दवाइयां खा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here