महेन्द्र सिंह धोनी ने अपनी जर्सी इस खिलाड़ी को देकर ले लिया संन्यास का फैसला, पूरी टीम हैरान

0
255
Loading...

धोनी के संन्यास के बाद उनके करीबी सुरेश रैना ने ये खुलासा किया था कि उनके रिटायरमेंट की खबर किसी को नहीं थी।

मेलबर्न का मैदान, भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच तीसरा टेस्ट मैच और मुकाबला खत्म होते ही आई ऐसी खबर, जिसने हिंदुस्तान ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के करोड़ों क्रिकेट फैंस को चौंका दिया था, 30 दिसंबर ही वो तारीख थी, जब दुनिया के सबसे महाने कप्तानों में शूमार महेन्द्र सिंह धोनी ने टेस्ट क्रिकेट से रिटायरमेंट का ऐलान किया था, धोनी ने 2014 में मेलबर्न टेस्ट के बाद अचानक ही संन्यास का ऐलान कर दिया, आज माही को टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कहे 5 साल हो गये हैं।

धोनी के संन्यास की कहानी
धोनी ने अपने आखिरी टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 11 और नाबाद 24 रनों की पारी खेली थी, जब वो पवेलियन लौट रहे थे, तो बेहद खुश थे, वो आम मैचों की तरह ही सभी खिलाड़ियों से हाथ मिलाकर वापस लौटे, किसी को भी इस बात की भनक नहीं थी, कि माही अब सफेद जर्सी में दोबारा मैदान पर नहीं दिखेंगे, धोनी ड्रेसिंग रुम में लौटे और सभी खिलाड़ियों को अपने पास बुलाकर संन्यास की बात बता दी। उनके इस फैसले से सभी हैरान रह गये थे।

Loading...

रैना को दी जर्सी
धोनी के संन्यास के बाद उनके करीबी सुरेश रैना ने ये खुलासा किया था कि उनके रिटायरमेंट की खबर किसी को नहीं थी, रैना ने कहा था कि किसी को उनके रिटायरमेंट की भनक नहीं थी, वो मेरे पास आये और कहा कि मेरे पास एक बड़ी जर्सी है, तुम इसे रख लो, वो नाश्ता कर रहे थे, और किसी से बातचीत नहीं कर रहे थे, मुझे लगा था कि आज शाम को कुछ बड़ा होने वाला है।

धोनी के बेमिसाल आंकड़े
माही वनडे के चैंपियन खिलाड़ी रहे हैं, लेकिन टेस्ट में भी उनके आंकड़े किसी से कम नहीं थे, उन्होने 90 टेस्ट मैचों में 4876 रन बनाये, जिसमें 6 शतक और 33 अर्धशतक शामिल है, धोनी ने 256 कैच और 38 स्टंपिंग भी की है, हालांकि धोनी ने कभी आंकड़ों की ओर नहीं देखा, क्योंकि अगर वो 10 टेस्ट और खेल लेते, तो 100 टेस्ट मैच खेलने वाले क्लब में शामिल हो जाते, 124 रन और बना लेते, तो उनके 5 हजार रन पूरे हो जाते। विकेट के पीछे 6 और शिकार कर लेते, तो बतौर विकेटकीपर 300 शिकार पूरे हो जाते।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here