Wednesday, May 12, 2021

हार्दिक पंड्या ने तोड़ी चुप्पी, बताया कब शुरु करेंगे गेंदबाजी, टीम को खल रही है कमी!

शुरुआती वनडे ऑस्ट्रेलिया में मिली हार के दौरान उनकी गेंदबाजी की काफी कमी महसूस की गई, ये ऑलराउंडर पीठ की सर्जरी के बाद अभी तक गेंदबाजी का भार संभालने के लिये तैयार हैं।

टीम इंडिया के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या ने शुक्रवार को कहा कि वो तभी गेंदबाजी करेंगे, जब समय सही होगा, और साथ ही उन्होने टीम से बहु प्रतिभा वाले अन्य खिलाड़ियों को तराशने का आग्रह किया, क्योंकि यहां शुरुआती वनडे ऑस्ट्रेलिया में मिली हार के दौरान उनकी गेंदबाजी की काफी कमी महसूस की गई, ये ऑलराउंडर पीठ की सर्जरी के बाद अभी तक गेंदबाजी का भार संभालने के लिये तैयार हैं, जिससे टीम का संतुलन प्रभावित हो रहा है, ये बात खुद कप्तान विराट कोहली ने स्वीकार की है।

सही समय पर गेंदबाजी करुंगा
हार्दिक पंड्या ने टीम को मिली 66 रन की हार के दौरान 76 गेंदों में 90 रनों की पारी खेली, उन्होने मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि मैं अपनी गेंदबाजी कर काम कर रहा हूं, मैं गेंदबाजी करुंगा, जब सही समय होगा, ऑस्ट्रेलियाई टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 374 रन बनाये, ये अहम है कि मैच की परिस्थितियों में गेंदबाजी करना शुरु करें, तो वो बेहतरीन प्रदर्शन के लिये अपनी रफ्तार हासिल कर सके, हार्दिक ने नेट पर गेंदबाजी करना शुरु कर दिया है, उनहोने कहा कि मैं अपनी गेंदबाजी में 100 फीसदी होना चाहता हूं, मैं उस रफ्तार से गेंदबाजी करना चाहता हूं, जो अंतरराष्ट्रीय स्तर के लिये जरुरी हो।

विश्वकप में गेंदबाजी
टी-20 विश्वकप के लिये 10 महीने का समय बचा है, हार्दिक पंड्या ने संकेत दिया है, कि वो लंबे लक्ष्य तथा बड़े टूर्नामेंट को ध्यान में रखते हुए गेंदबाजी शुरु करना चाहते हैं, उन्होने कहा कि हम आगे के बारे में सोच रहे हैं, हम टी-20 विश्वकप और अन्य महत्वपूर्ण टूर्नामेंट के बारे में सोच रहे हैं, यहां मेरी गेंदबाजी ज्यादा अहम होगी।

नये ऑलराउंडरों को तराशना होगा
हार्दिक ने कहा जब आप 375 रन के लक्ष्य का पीछा करते हो, तो हर किसी को जज्बे के साथ खेलना चाहिये, इसके अलावा कोई कुछ नहीं कर सकता, आप ज्यादा योजना नहीं बना सकते, उन्होने कहा कि टीम इंडिया को हरफनमौला विकल्पों के बारे में विचार करना चाहिये, क्योंकि छठा गेंदबाजी विकल्प टीम के संतुलन के लिये जरुरी है, उन्होने कहा मुझे लगता है कि शायद हमें किसी को ढूंढना होगा, जो भारत के लिये खेल चुका हो, और उन्हें तराशना होगा, उन्हें खिलाने का तरीका ढूंढना होगा, पंड्या ने कहा कि जब आप 5 गेंदबाजों के साथ उतरते हो, तो ये हमेशा मुश्किल होगा, क्योंकि अगर किसी का दिन अच्छा नहीं होगा, तो उसकी भूमिका को भरने के लिये आपके पास कोई नहीं होगा, उन्होने कहा कि चोट से ज्यादा 6ठें गेंदबाज की भूमिका है।

Related Articles

- Advertisement -spot_img

Latest Articles