शनि इस समय मकर राशि में है, 2022 में शनि अपनी ही राशि कुंभ में प्रवेश करने वाले हैं, आइये जानते हैं कि शनिदेव के अपने ही राशि में आने से किस राशि वालों पर शनि का ढैय्या और साढेसाती का क्या असर होगा।

ज्योतिषी के अनुसार शनिदेव यदि किसी पर मेहरबान रहें, तो किस्मत चमकते देर नहीं लगती, उस इंसान की जिंदगी खुशियों से भर जाती है, वहीं जब शनिदेव की टेढी नजर किसी पर पड़ती है, तो उसका बेड़ागर्क हो जाता है, उसे दर-दर की ठोकरें खानी पड़ती है, साथ ही वो कंगाली की स्थिति में पहुंच जाता है, शनि के राशि परिवर्तन का सभी इंसान पर खास असर होता है, शनि करीब ढाई साल पर अपनी राशि बदलता है, शनि इस समय मकर राशि में है, 2022 में शनि अपनी ही राशि कुंभ में प्रवेश करने वाले हैं, आइये जानते हैं कि शनिदेव के अपने ही राशि में आने से किस राशि वालों पर शनि का ढैय्या और साढेसाती का क्या असर होगा।

30 साल बाद शनि बदलेंगे राशि
शनिदेव 2022 में 29 अप्रैल को कुंभ राशि में प्रवेश करने वाले हैं, shani rashi ज्योतिष के अनुसार शनि ढाई साल में एक बार राशि बदलते हैं, ऐसे में शनि 30 साल बाद अपनी ही राशि कुंभ में लौटेंगे।

किस राशि पर कैसा रहेगा साढेसाती का प्रभाव
ज्योतिष के अनुसार 2022 में शनि के कुंभ राशि में प्रवेश करते ही धनु राशि वालों को साढेसाती से छुटकारा मिल जाएगा, जबकि राशि चक्र की सबसे अंतिम राशि मीन पर साढेसाती का पहला चरण शुरु हो जाएगा, वहीं कुंभ राशि पर साढेसाती का दूसरा चरण शुरु हो जाएगा, इसके अलावा मकर राशि में साढेसाती का अंतिम चरण शुरु होगा।

2022 में शनि की ढैय्या और साढेसाती
2022 में शनि के गोचर के बाद दो राशियों पर शनि की ढैय्या शुरु होगी, 2022 में शनि की ढैय्या के अंतर्गत कर्क और वृश्चिक राशियां आएंगी, ऐसे में कर्क तथा वृश्चिक राशि वालों को बहुत अधिक सावधान रहने की जरुरत है, वहीं मिथुन तथा तुला राशि के जातकों को शनि की ढैय्या से मुक्ति मिल जाएगी।

Read Also – Sawan Shaniwar- शनि की साढेसाती और ढैय्या से बचने के लिये सावन में शनिवार को जरुर करें ये काम