सूर्य की वजह से शनि हुए अस्त, इन राशियों पर बड़ा असर, रहेंगे अशुभ

0
210
Loading...

मकर राशि में 30 जनवरी तक सूर्य के रहने से शनि अस्त रहेंगे, शनि के अस्त रहने से कई राशियों पर बुरा असर पड़ सकता है।

शनि के मकर राशि में जाने के बाद चार ग्रहों का अजब संयोग बन रहा है, दरअसल मकर राशि में अब शनि के अलावा सूर्य, चंद्र और बुध बैठ चुके हैं, ज्योतिषी के मुताबिक एक राशि में 3 ग्रहों से ज्यादा की उपस्थिति ग्रह युद्ध की स्थिति पैदा करती है, ऐसे में कई बार राजयोग की भी संभावना बनती है, मकर राशि में 30 जनवरी तक सूर्य के रहने से शनि अस्त रहेंगे, शनि के अस्त रहने से कई राशियों पर बुरा असर पड़ सकता है, आइये जानते हैं कि किन राशियों पर क्या असर होगा।

मेष – इस राशि के 10वें घर में सूर्य और शनि एक साथ विराजमान हैं, दोनों ही सत्ता और नौकरी के कारक माने जाते हैं, शनि के अस्त होने की वजह से दोनों ही मामलों में दिक्कतें बढ सकी है, 4 ग्रहों की युति की वजह से अगले 15 दिनों तक सावधान रहने की आवश्यकता है।
वृषभ – इस राशि के लिये ग्रहों की ये युति लाभकारी होगा, 30 जनवरी तक शनि भाग्य को बांधकर रखेंगे, इसके बाद स्थिति बेहतर हो जाएगी, मई 2020 के बाद भाग्य चमकने लगेगा।
मिथुन – मिथुन राशि में 4 ग्रहों की ये युति 8वें घर में बन रही है, सूर्य-बुध जब आठवें घर में होते हैं, तो इंसान का बौद्धिक विकास होता है, शनि के अस्त होने से मिथुन राशि वालों को नुकसान हो सकता है, दांपत्य जीवन में बाधाएं आ सकती है, कोर्ट कचहरी के मामलों से बचकर रहे, 31 जनवरी के बाद बेहतर समय आएगा।

कर्क – इस राशि के 7वें घर में शनि का गोचर हुआ है, 7वें घर में जब 4 ग्रह एक साथ आकर बैठते हैं, तो विवाह के मामलों में बड़ी दिक्कतें आती है, पति-पत्नी के बीच झगड़े बढ सकते हैं, हालांकि कारोबार के मामले में शनि लाभ देंगे।
सिंह – सिंह राशि वालों के छठें घर में शनि और सूर्य की युति अशुभ संयोग बना रही है, पिता की सेहत खराब हो सकती है, सिर पर कर्जों का भार बढ सकता है, हालांकि सूर्य-शनि के एक साथ होने से शत्रुओं का नाश होगा।
कन्या- इस राशि के 5वें घर में शनि का गोचर हुआ है, संतान के लिये कष्टकारी हो सकता है, लव लाइफ में भी दिक्कतें बढेंगी, हालांकि जनवरी के बाद स्थितियां नियंत्रण में आ जाएंगी, बच्चों को पढाई लिखाई में सफलता मिलेंगी।

तुला – इस राशि के चौथे भाव में शनि का गोचर हुआ है, मां के स्वास्थ्य के लिये ग्रहों की युति अच्छी नहं है, धन के मामलों में समस्या नहीं होगी, नौकरी -व्यापार के मामलों में मेहनत करने पर ही अच्छे फल प्राप्त होंगे।
वृश्चिक – इस राशि के तीसरे भाव में शनि का गोचर हुआ है, भाई बहनों के साथ रिश्ते खराब हो सकते हैं, यात्रा में नुकसान हो सकता है, पराक्रम में वृद्धि होगी, 1 फरवरी के बाद लाभ के योग बन रहे हैं, भगवान विष्णु की उपासना करने से स्थिति सामान्य हो सकती है।
धनु – इसके दूसरे भावन में शनि का गोचर हुआ है, दूसरा भाव वाणी का होता है, इसलिये वाणी पर संयम रखने की आवश्यकता है, पिता या पत्नी में झगड़ों के योग बन रहे हैं, गृह क्लेश बढ सकता है, 31 जनवरी के बाद स्थिति बेहतर होगी, धन लाभ के भी योग बनेंगे।

मकर – इस राशि में युति से असमंजस की स्थिति बनेगी, तालमेल की कमी आएगी, गुस्से की वजह से पड़ोसी या सहकर्मियों के साथ अनबन हो सकती है, पैतृक संपत्ति में भी कमी आ सकती है, मकर राशि वाले के भाग्य 16 फरवरी के बाद बेहतर होने की संभावना है।
कुंभ – कुंभ राशि के 12वें भाव में चार ग्रहों की युति बन रही है, खर्चे बहुत ज्यादा बढेंगे, पिता के स्वास्थ्य पर बहुत ज्यादा खर्च होगा, कर्ज लेने से बचें, अगले 15 दिनों तक कर्ज ना लें, इस दौरान शनि चालीसा का पाठ करने से आपकी मुसीबतें कुछ कम हो सकती है।
मीन – इस राशि के 11वें भाव में चार ग्रह है, तीस जनवरी से पहले बड़ा निवेश करने से बचें, बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की पूजा अर्चना करने से लाभ मिल सकता है, नौकरी और व्यवसाय में तरक्की मिलने की संभावना है।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here