shani1

शनिदेव साल 2021 में कोई राशि नहीं बदल रहे हैं, इस बार सिर्फ नक्षत्र परिवर्तन हो रहा है, शनि 20 जनवरी 2021 तक उत्तराषाढा नक्षत्र में रहेंगे।

शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा का विधान है, शनि देव तथा गमेश जी की पूजा इस दिन एक साथ करने से शनि का दोष तो दूर होता ही है, साथ ही राहु तथा केतु का दोष भी दूर होता है, इन दोनों ग्रहों का फल भी शनि के समान ही माना जाता है, इसलिये जिन लोगों के जीवन में राहु-केतू तथा शनि देव अशुभ फल प्रदान कर रहे हैं, उनके लिये ये दिन बहुत ही शुभ है।

मिथुन-तुला पर शनि का ढैय्या
ज्योतिषी के मुताबिक इस समय मिथुन तथा तुला राशि पर शनि की ढैय्या चल रही है, शनि की ढैय्या ढाई साल तक व्यक्ति पर रहती है, इस दौरान शनि अशुभ होने पर बहुत ही बुरे फल देता है।

धनु, मकर तथा कुंभ पर साढेसाती
धनु, मकर तथा कुंभ राशि पर इस समय शनि की साढेसाती चल रही है,  इस दौरान हर प्रकार की हानि मिलती है, रोग, आर्थिक नुकसान में वृद्धि होती है, व्यक्ति का जीवन संकटों से भर जाता है।

2021 में कोई राशि परिवर्तन नहीं
शनिदेव साल 2021 में कोई राशि नहीं बदल रहे हैं, इस बार सिर्फ नक्षत्र परिवर्तन हो रहा है, शनि 20 जनवरी 2021 तक उत्तराषाढा नक्षत्र में रहेंगे, वहीं 202 जनवरी को शनि श्रवण नक्षत्र में रहेंगे, इस समय शनि देव मकर राशि में गोचर कर रहे हैं, जहां वो देव गुरु बृहस्पति के साथ युति बनाएं हुए हैं।

शनि का उपाय
शनिवार को शनि का दान करना चाहिये, जिससे शनि देव प्रसन्न होते हैं, शनि देव निर्धन तथा जरुरतमंदों की सेवा करने से भी खुश होते हैं, शनिवार के दिन काले कंबल का दान करने से शनि बहुत जल्दी शुभ फल देते हैं।
शनि का मंत्र
ऊँ प्रां प्रीं प्रैं शनैश्चराय नमः।