रक्षाबंधन पर 29 साल बाद महासंयोग, इस शुभ-मुहूर्त पर बांधे भाई को रक्षा-सूत्र

0
110
rakshabandhan shubh muhurat

rakshabandhan shubh muhurat: सावन का महीना तीज-त्योहारों का होता है. चारों तरफ हरियाली और खुशहाल माहौल होता है. सावन के महीने में पड़ने वाली पूर्णिमा के दिन रक्षाबंधन का पावन त्योहार मनाया जाता है. ये त्योहार खासतौर से भाई-बहन के रिश्ते का प्रतीक होता है. इस बार रक्षाबंधन का पवित्र त्योहार सोमवार यानि 3 अगस्त को मनाया जाएगा जो बेहद खास है. क्योंकि, इस बार 29 सालों के बाद रक्षाबंधन पर महासंयोग बन रहा है. इस बारे में ज्‍योतिषियों का कहना है कि, महासंयोग के कारण रक्षाबंधन का त्योहार बेहद खास होगा. तो चलिए जानते हैं कि, इस बार राखी बांधने का शुभ मुहूर्त क्या है और भद्रा काल कब है.

रक्षाबंधन कब मनाएं
भाई-बहन के रिश्ते की डोर का पावन त्योहार अपने साथ ढेर सारी खुशियां लेकर आता है. लेकिन ऐसा माना जाता है कि, कभी-भी राखी का त्योहार भद्रा काल में नहीं मनाना चाहिए क्योंकि,rakshabandhan इसकी पीछे एक वजह है. दरअसल, भद्रा काल को लेकर रावण की बहन की कथा काफी प्रचलित है. ऐसी मान्यता है कि, रावण को भद्रा काल में ही रक्षा सूत्र बांधा गया था और इसी वजह से उसका विनाश हो गया.

शुभ-मुहूर्त
3 अगस्त 2020 को भद्रा काल का समय सुबह 9 बजकर 29 मिनट तक है और इसके बाद राखी का शुभ मुहूर्त शुरू होगा. ज्योतिषियों की मानें तो, दोपहर 1 बजकर 35 मिनट से लेकर शाम 4 बजकर 35 मिनट तक का समय बहुत ही शुभ है. rakshabandhan 1अगर इस शुभ मुहूर्त पर राखी न बांध पाए तो शाम 7 बजकर 30 मिनट से लेकर रात 9.30 के बीच एक और शुभ मुहूर्त है. इसमें आप अपने भाईयों को राखी बांध सकते हैं.

भाई-बहन की आयु होगी लंबी
3 अगस्त को मनाई जाने वाली राखी के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है. ऐसा मान्यता है कि, इस योग के बनने से सारी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और आयुष्मान दीर्घायु योग से भाई-बहन दोनों की आयु लंबी होती है. इसलिए जब भी आप अपने भाई को रक्षासूत्र बांधे तो उनकी आयु लंबी होने की कामना करें.rakshabandhan 2 जानकारों के मुताबिक, 3 अगस्त को सावन की पूर्णिमा भी है और चंद्रमा का ही श्रवण नक्षत्र भी है. इसी दिन मकर राशि का स्वामी शनि और सूर्य आपस में समसप्तक योग बना रहे हैं, शनि और सूर्य दोनों आयु बढ़ाते हैं. इससे पहले ऐसा संयोग पूरे 29 साल पहले बना था. ऐसे में रक्षाबंधनrakshabandhan 3 का त्योहार बेहद खास है. जिन बहनों से उनके भाई दूर हैं कोरोना वायरस की वजह से नहीं आ सकते. वो निराश न हो और ऑनलाइन ही भाईयों को राखी व उपहार भेजकर इस त्योहार को मनाएं. क्योंकि, इस समय जीवन ही पहली प्राथमिकता है.

ये भी पढ़ेंः- पहाड़ी बेटियों की शानदार पहल, रक्षाबंधन के लिए तैयार की स्वदेशी राखियां, आप भी करें ऑर्डर