sun

सूर्य देव मकर राशि में प्रवेश करते हैं, तो मकर संक्रांति होती है, मकर राशि के स्वामी शनि देव हैं, ऐसे में माना जाता है कि सूर्य देव पुत्र शनि देव से उनके घर मिलते हैं।

मकर संक्रांति पर सूर्य देव की अराधना करके सुख तथा सौभाग्य में वृद्धि कर सकते हैं, आप मकर संक्रांति पर शनि दोष से मुक्ति के उपाय भी कर सकते हैं, मकर संक्रांति से शनि देव का भी संबंध है, इस बार मकर संक्रांति का पर्व 15 जनवरी शनिवार को मनाया जाएगा। हालांकि सूर्य की मकर संक्रांति 14 जनवरी को प्रारंभ हो जाएगी, सूर्यदेव जब मकर संक्रांति पर उत्तरायण होते हैं, तो देवताओं का दिन शुरु होता है, मकर संक्रांति के दिन सूर्य देव अपने पुत्र शनि देव से मिलने उनके घर जाते हैं, आइये जानते हैं कि मकर संक्रांति शनि दोष से मुक्ति के लिये अच्छा अवसर कैसे है, मकर संक्रांति से शनिदेव का क्या संबंध है।

मकर संक्रांति से शनिदेव का संबंध
सूर्य देव मकर राशि में प्रवेश करते हैं, तो मकर संक्रांति होती है, मकर राशि के स्वामी शनि देव हैं, ऐसे में माना जाता है कि सूर्य देव पुत्र शनि देव से उनके घर मिलते हैं, वहां वो लगभग एक महीने तक रहते हैं, सूर्य की तेज के सामने शनि देव की चमक फीकी हो जाती है। shani (1) पौराणिक कथाओं के मुताबिक जब सूर्य देव पहली बार शनि देव के घर आये थे, तो उन्होने अपने पिता का स्वागत काले तिल से किया था, इससे सूर्य देव प्रसन्न हुए थे, तो उन्होने आशीर्वाद दिया था कि उनका घर धन धान्य से भर जाएगा, इसी वजह से हर साल मकर संक्रांति पर सूर्य देव की पूजा में काले तिल का इस्तेमाल किया जाता है, काला तिल शनि देव को अतिप्रिय है, उनकी पूजा में भी काला तिल चढाया जाता है, ऐसे में आप मकर संक्रांति पर शनि देव और सूर्य देव की पूजा काले तिल से करते हैं, तो शनि देव प्रसन्न होंगे, उनकी कृपा से आपकी मनोकामना पूरी होगी, कुंडली में व्याप्त शनि दोष का प्रभाव भी कम होगा।

शनिवार को मकर संक्रांति
इस बार की मकर संक्रांति शनिवार के दिन है, शनिवार का दिन शनि देव को समर्पित है, shani2 शनिवार के दिन ही पिता सूर्य देव का पुत्र शनि देव से मिलन है, ऐसे में ये अवसर शनि देव को प्रसन्न कर उनकी कृपा प्राप्त कर लेने की है।

दोष मुक्ति का उपाय
मकर संक्रांति को स्नान के बाद जल में काला तिल मिलाकर सूर्य देव को अर्पित करें, उसके बाद शनि देव की पूजा करें, उनको भी पूजा में काला तिल अर्पित करें, पूजा के बाद गरीब, जरुरतमंद लोगों को सरसों का तेल, काला तिल, तिल के लड्डू, गरम वस्त्र इत्यादि दान करें, इससे शनि देव प्रसन्न होंगे।

(डिस्क्लेमर- इस लेख में दी गई जानकारियां तथा सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित है, हम इसकी पुष्टि नहीं करते हैं, इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Read Also – 8 जनवरी को है बेहद खास संयोग, शनिदेव की है इन 5 राशियों पर टेढी नजर, चाहिये मुक्ति तो करें ये काम