rakshabandhan1 (1)

आज हम आपको बताते हैं कि ऐसी कौन सी चीजें है, जिन्हें भूलकर भी अपनी बहनों को उपहार में नहीं देना चाहिये।

22 अगस्त को रक्षा बंधन का त्योहार मनाया जाएगा, सभी घरों में इसकी तैयारियां जोर-शोर से चल रही है, सभी भाई अपनी बहनों को गिफ्ट देने की प्लानिंग कर रहे हैं। हिंदू धर्म शास्त्रों के मुताबिक इस त्योहार पर भूलकर भी कुछ चीजें अपनी बहनों को गिफ्ट नहीं करनी चाहिये, ऐसा करने से उनका जीवन परेशानियों से घिर जाता है, आज हम आपको बताते हैं कि ऐसी कौन सी चीजें है, जिन्हें भूलकर भी अपनी बहनों को उपहार में नहीं देना चाहिये।

शीशे से बनी चीजें गिफ्ट ना करें
कई सारे लोग रक्षाबंधन पर अपनी बहनों को फोटो फ्रेम या फिर शीशे से बनी कोई चीज गिफ्ट में देते हैं, सनातन धर्म के अनुसार ऐसा करना बेहद अशुभ माना जाता है, ऐसा करने से व्यक्ति के जीवन में नकारात्मकता आती है, ऐसे में रक्षाबंधन पर बहनों को शीशा या शीशे से जुड़ी किसी भी चीज को भूलकर भी गिफ्ट ना करें, उन्हें इस दिन बहनों को नाइफ सेट भी गिफ्ट नहीं करना चाहिये, ये सब चीजें परिवार में प्रतिकूलता लाती है।

तोहफे में ना दें रुमाल
चाहे रक्षाबंधन हो या फिर कोई सामान्य दिन, कभी भी अपने परिजनों को तोहफे में रुमाल नहीं देना चाहिये, रुमाल देना एक तरह से विदाई का प्रतीक माना जाता है, इसलिये इसे देने या लेने से हमेशा परहेज करना चाहिये, ऐसी चीज व्यक्ति के जीवन में कष्ट लेकर आती हैं, इंसान को हमेशा खुद ही रुमाल खरीदकर इस्तेमाल करना चाहिये, गिफ्ट में मिले रुमाल का इस्तेमाल नहीं करना चाहिये।

इस रंग के कपड़ों से करें परहेज
रक्षाबंधन पर बहनों को कपड़े भेंट करना एक सामान्य परंपरा है, ऐसा करना अच्छा माना जाता है, लेकिन आप भूलकर भी बहनों को काले रंग के कपड़े गिफ्ट ना करें, काला रंग, दुख, कष्ट तथा तकलीफों का प्रतीक माना जाता है, इसे मृत्युकारक भी कहा जाता है, इसलिये तीज-त्योहार या अन्य शुभ मौकों पर काले रंग के कपड़े गिफ्ट में देने से परहेज करना चाहिये।

जीवन में प्रगति रोकती है घड़ी
कई सारे लोग रक्षाबंधन पर अपनी बहनों को घड़ी गिफ्ट देते हैं, माना जाता है कि घड़ी जीवन में होने वाली प्रगति को रोकती है, घड़ी कई बार रुक भी जाती है, या खराब हो जाती है, जिसे अनिष्ट का संकेत माना जाता है, इसलिये रक्षा बंधन पर अपनी बहनों को उपहार में घड़ी ना दें।

भूलकर भी बहनों को ना दें ये गिफ्ट
लड़कियों के लिये पसंदीदा सैंडल या जूते पाने की चाहत रखना एक सामान्य बात है, अपनी बहनों की खुशी को देखते हुए बहुत सारे भाई रक्षाबंधन पर इन चीजों को गिफ्ट कर देते हैं, माना जाता है कि ये चीजें जुदाई का प्रतीक होती है, इन्हें तोहफे में देने से भाई-बहन के रिश्तों के बीच दूरियां आ जाती है, इसलिये कभी भी रक्षाबंधन पर बहनों को जूते-सैंडल्स गिफ्ट नहीं देने चाहिये।
(नोट- इस लेख में दी गई जानकारियां सामान्य जानकारी तथा मान्यताओं पर आधारित है, हम इसकी पुष्टि नहीं करते हैं।)

Read Also – शादी के 6 साल बाद भी नहीं बनी मां, पति ने देवर के साथ मिलकर पत्नी का प्राइवेट पार्ट