22 मई को शनि जयंती, अरसे बाद बन रहा अद्भुत संयोग, 3 राशि के जातक रहे संभलकर

0
192

शनि देव- ज्योतिषी के मुताबिक मकर राशि में शनि के साथ-साथ गुरु और चंद्रमा की युति बन रही है, ये अद्भुत संयोग सालों बाद हो रहा है।

शुक्रवार 22 मई को शनि जयंती का अद्भुत संयोग बन रहा है, खास बात ये है कि इस साल शनि जयंती शुक्रवार के दिन है और इस दिन ग्रहों का दुर्लभ संयोग बन रहा है, आपको बता दें कि हर साल ज्येष्ठ मास के अमावस्या वाले दिन शनि जयंती के रुप में मनाया जाता है, शनि देव के भक्तों के लिये ये दिन खास होता है, 22 मई को शनि के साथ स्वराशि मकर में एक साथ 3 ग्रह विराजमान होंगे, ज्योतिषी के मुताबिक मकर राशि में शनि के साथ-साथ गुरु और चंद्रमा की युति बन रही है, ये अद्भुत संयोग सालों बाद हो रहा है, इस संयोग का मेष, तुला, मकर और मीन राशि के जातकों पर खास प्रभाव पड़ेगा।

मेष – इस राशि के जातकों के लिये शनि जयंती बेहद खास और शुभ रहने वाली है, व्यापार और धन लाभ के योग बन रहे हैं, शनि कर्म भाव में हैं, निश्चित रुप से नये कार्य का अनुभव होगा, नये कार्य नें हाथ डालने के लिये बेहद शुभ घड़ी है, गुप्त रुप से धन की प्राप्ति होगी, आय के नये स्त्रोत भी उत्पन्न होंगे, दूसरों को बेवजह परेशान ना करें, सुंदरकांड या हनुमान चालीसा का पाठ करें।
वृषभ – शनि जयंती पर बन रहा ग्रहों का संयोग इस राशि के जातकों के लिये बेहद अनुकूल रहेगा, घर, मकान या अन्य किसी काम को छेड़ने के लिये ये शुभ समय है, घर, परिवार और समाज में लोगों से सम्मान मिलेगा, इस दिन स्नान के बाद शनि देव की अराधना करें, 10 बार महामृत्युजंय मंत्र का जाप करें।

मिथुन- शनि देव इस राशि के अष्टम भाव में होंगे, धन लाभ के योग बन रहे हैं, व्यापार और नौकरी में लाभ की स्थिति बन रही है, गुप्त संपत्ति प्राप्त होगी, हालांकि स्वास्थ्य को लेकर सचेत रहने की जरुरत है, घर के किसी दूसरे सदस्य के सेहत का ध्यान रखें।
कर्क – शनि जयंती पर इस राशि के सप्तम भाव में शनि देव होंगे, इस राशि वालों को थोड़ा संभलकर रहने की जरुरत है, कार्य क्षेत्र में बदलाव के योग बन रहे हैं, नौकरी में परिवर्तन के योग बन रहे हैं, व्यापार में भी झटका लग सकता है, पारिवारिक विवाद की संभावना बढ रही है, इस राशि के जातक शनि जयंती पर लोहे के एक कटोरे में सरसों का तेल भरकर अपने चेहरा देखें, और दान कर दें।

सिंह- इस राशि पर शनि जयंती का मिला-जुला परिणाम रहेगा, शनि आपकी राशि के छठे भाव में उपस्थित रहेंगे, नये काम शुरु करने के लिये अच्छा समय है, हालांकि इस दौरान शत्रु पक्ष आपके लिये बड़ी समस्या खड़ी कर सकता है, इस दिल काली उड़द की दाल दान करने से शत्रुओं का नाश होगा।
कन्या – शनि जयंती पर शनिदेव इस राशि के पांचवें भाव में होंगे, आर्थिक स्थिति सामान्य रहेगी, लेकिन करियर के क्षेत्र में काफी प्रयास करने की जरुरत होगी, सफलता के रास्ते में कई बाधाएं आ सकती है, इसलिये मेहनत करने में कसर बाकी ना रखें, शनि देव के बीज मंत्र ऊँ प्रां प्रीं प्रौं शः श्नैश्चराय नमः मंत्र का जाप करें।

तुला – इस राशि के चौथे भाव में शनि देव होंगे, समाज में मान प्रतिष्ठा बढेगी, मेहनत करने से सफलता मिलेगी, नौकरी व्यापार के मामले में सब सामान्य रहेगा, धन लाभ के योग बन रहे हैं, खर्चे कम होंगे, कर्ज से मुक्ति भी मिलेगी, शमी के वृक्ष को जल अर्पित करने से आपका भाग्योदय हो सकता है।
वृश्चिक – इस राशि वालों को थोड़ा संभलकर रहने की आवश्यकता है, शनि आपके पराक्रम भाव में है, गुप्त शत्रुओं से आपको बेहद सावधान रहना होगा, हालांकि नया कार्य शुरु करने के लिये अच्छा समय है, लंबे समय से अटके कार्य पूरे होंगे, शनि जयंती के बाद हर शनिवार गरीबों की यथासंभव मदद करें, दोगुना लाभ मिलेगा।

धनु- शनि जयंती पर शनिदेव इस राशि के द्वितीय भाव में रहेंगे, घर के सदस्यों का सहयोग मिलेगा, मानसिक अवसाद से दूर रहेंगे, खर्चे थोड़े बढ सकते हैं, लेकिन ईय में किसी तरह की रुकावटें नहीं आएंगी, गुस्से पर कंट्रोल रखें, गुस्से की वजह से हुए विवाद से आपको नुकसान हो सकता है, शनि जयंती पर चींटियो को आटा डालना शुभ रहेगा।
मकर – शनि जयंती इस राशि के लिये बेहद खास रहने वाली है, इस राशि में शनि के साथ गुरु के रहने से आपका भाग्योदय होगा, धन की समस्या दूर होने वाली है, खर्चे घटेंगे, धन की प्राप्ति होगी, कर्जों से मुक्ति मिलेगी, हालांकि वाणी पर कंट्रोल नहीं रखने से नुकसान भी हो सकता है।

कुंभ – शनि जयंती पर ग्रहों का संयोग इस राशि के लिये ज्यादा लाभदायक नहीं होगा, उल्टा खर्चों में वृद्धि हो सकती है, सीमित संसाधनों के साथ धन प्राप्त होता रहेगा, स्वास्थ्य पर खास ध्यान देने की जरुरत है, सफलता प्राप्त करने के लिये अधितक संघर्ष करना होगा, नीलम का रत्न धारण करने से शनि की साढेसाती का प्रभाव कुछ कम हो सकता है।
मीन – इस राशि के जातकों के लिये शनि जयंती बेहद महत्वपूर्ण है, धन के योग बन रहे हैं, जितनी मेहनत करेंगे, सफलता उतनी ही मिलेगी, संगति दोष से बचें, घर में सुख शांति का माहौल रहेगा, सरसों के तेल में काले तिल डालकर दान करने से लाभ मिलेगा।