कार्यक्रम में बोलते हुए उर्मिला मातोंडकर ने कहा कि मुझे लगता है कि आपको बतानी चाहिये, कि जिस इंसान ने गांधी जी पर गोलियां चलाई थी, वो इंसान कौन था।

नागरिकता कानून और एनआरसी को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन जारी है, बॉलीवुड सितारों ने भी इस पर आपत्ति जाहिर की है, एक्ट्रेस और पूर्व कांग्रेस नेता उर्मिला मातोंडकर ने सीएए की तुलना काले कानून से की है, दरअसल महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर एक कार्यक्रम में बोलते हुए एक्ट्रेस ने सीएए की तुलना अंग्रेजों के रॉलेट एक्ट से कर दी, हालांकि इस दौरान उन्होने तथ्यों में गलती कर दी, जिसकी वजह से ट्रोल हो रही है।

उर्मिला ने क्या कहा
कार्यक्रम में बोलते हुए उर्मिला मातोंडकर ने कहा कि मुझे लगता है कि आपको बतानी चाहिये, कि जिस इंसान ने गांधी जी पर गोलियां चलाई थी, वो इंसान कौन था, क्या वो इंसान मुसलमान था, सिख या ईसाई था, वो हिंदू था, अब इसके अलावा इस बारे में मैं यहां क्या कहूं, क्योंकि ये बात हम सबके लिये भयानक है, इस बात को हर दिन सुबह उठकर दिमाग में रखना इतना भयानक है कि क्या बताऊं।

रॉलेट एक्ट
उर्मिला ने कहा कि साल 1919 में दूसरा विश्वयुद्ध खत्म होने के बाद ब्रिटिशर्स को पता था कि हिंदुस्तान में असंतोष फैल रहा है, ये असंतोष बाहर आने वाला है, इसलिये वो एक कानून लेकर आये, उस कानून का नाम काफी लंबा था, लेकिन वो रॉलेट एक्ट के नाम से मशहूर हुआ, क्योंकि वो कानून रॉलेट के डेलीगेशन द्वारा लाया गया था, उस कानून के अनुसार किसी भी भारतीय को सत्ता विरोधी गतिविधियां करने के लिये बिना किसी सबूत के पूछताछ करने और जेल में डालने की अनुमति सरकार को थी।

स्मिता ने दिखाया आईना
उर्मिला मातोंडकर के बयान के बाद न्यूज एजेंसी एएनआई की एडिटर स्मिता प्रकाश ने उन्हें आईना दिखाया, और बताया कि वो तथ्यों को सही करें, द्वितीय विश्वयुद्ध 1919 में नहीं बल्कि 1939 से 1945 में हुआ था, इसके साथ ही अन्य लोग भी एक्ट्रेस को ट्रोल कर रहे हैं, कि उन्हें गलत स्क्रिप्ट मिल गई, या स्क्रिप्ट में ही तथ्य गलत थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here