बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर की तबीयत बिगड़ी, ऑफिस में ही बेहोश होकर गिर पड़ी

0
182
Sadhvi1

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने कहा था कि कांग्रेस नेता उनके बारे में बिना सिर-पैर की बातें कर रहे हैं, मैं आज जिन बीमारियों से जूझ रही है, ये कांग्रेस सरकारों द्वारा दी गई है।

अभी-अभी एमपी की राजधानी भोपाल से एक बड़ी खबर सामने आई है, दरअसल भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर की तबीयत अचानक बिगड़ गई है, वो बीजेपी ऑफिस में गिर पड़ी, जिसके बाद बीजेपी कार्यकर्ताओं ने उन्हें उठाकर कुर्सी पर बिठाया, एकाएक बेहोश हो जाने के वजह से सभी के होश उड़ गये, हालांकि बताया जा रहा है कि अब भोपाल सांसद ठीक हैं।

गुमशुदगी के पोस्टर
आपको बता दें कि बीते तीस मई को भोपाल संसदीय क्षेत्र में सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के गुमशुदगी के पोस्टर लगाये गये थे, उसके अगले ही दिन 31 मई को जानकारी मिली, कि भोपाल सांसद दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती हैं, सूत्रों के अनुसार वो स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से जूझ रही हैं, इसी वजह से भोपाल से ज्यादा दिल्ली में समय बिता रही हैं।

वीडियो संदेश जारी
साध्वी ने वीडियो संदेश जारी कर कहा था कि उनकी तबीयत ठीक नहीं है, उन्हें एक आंख से दिखना बंद हो गया है, दूसरी से भी धुंधला और सिर्फ 25 फीसदी ही दिख रहा है, साथ ही ब्रेन से लेकर रेटीना तक में सूजन तथा पस है, डॉक्टरों ने सांसद से बातचीत करने से मना किया है, भोपाल में गुमशुदगी के पोस्टर चस्पाने पर उन्होने कहा था कि ये कांग्रेस की घृणित राजनीति है, लॉकडाउन में भले वो दिल्ली में हैं, लेकिन उनकी पूरी टीम भोपाल संसदीय क्षेत्र में लोगों के लिये काम कर रही है।

आराम की सलाह
तब साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने कहा था कि कांग्रेस नेता उनके बारे में बिना सिर-पैर की बातें कर रहे हैं, मैं आज जिन बीमारियों से जूझ रही है, ये कांग्रेस सरकारों द्वारा दी गई है, साध्वी से जुड़े सूत्रों ने बताया कि उन्हें सिर, आंख और कमर में परेशानी होने के बाद दिल्ली एम्स में भर्ती कराया गया था, फिलहाल डॉक्टरों ने उन्हें आराम करने की सलाह दी है। साध्वी के करीबियों ने दावा किया कि पूर्व की कांग्रेस सरकार ने गिरफ्तारी और पूछताछ के दौरान उन्हें खूब प्रताड़ित किया था, इसी दौरान उनकी आंख और सिर में चोट लगी थी, साथ ही कमर दर्द की भी शिकायत शुरु हुई थी।

Read Also – फिर पलटी मारने को तैयार हैं बिहार के पूर्व सीएम! 26 जून तक का अल्टीमेटम