प्रशांत किशोर की जदयू से हो सकती है छुट्टी, नीतीश के करीबी सांसद ने इशारों में कही बहुत बड़ी बात

0
45

पार्टी ने नागरिकता बिल पर अपनी लाइन तय कर ली है, जदयू सांसद आरसीपी सिंह ने कहा कि पार्टी ने अपना स्टैंड क्लियर कर लिया है, मैं किसी का नाम नहीं लूंगा।

नागरिकता संशोधन बिल पर मोदी सरकार के पक्ष में वोट करने के बाद से जदयू उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर आलाकमान के फैसले से नाराज चल रहे हैं, जदयू के समर्थन में वोट करने पर पीके ने ट्वीट कर सवाल खड़े किये थे, उन्होने लिखा था कि जदयू के स्टैंड से निराशा हुई, ये बिल नागरिकता के आधार से धर्म के आधार पर भेदभाव करता है, इसके बाद राज्यसभा में बिल के पारित होने के बाद उन्होने नीतीश कुमार पर भी निशाना साधा, अब जदयू के राज्यसभा सांसद आरसीपी सिंह ने उन पर बड़ा हमला बोला है।

अपना रास्ता चुनना चाहिये
पार्टी ने नागरिकता बिल पर अपनी लाइन तय कर ली है, जदयू सांसद आरसीपी सिंह ने कहा कि पार्टी ने अपना स्टैंड क्लियर कर लिया है, मैं किसी का नाम नहीं लूंगा, लेकिन अगर किसी को कोई समस्या है, तो वो स्वतंत्र है, पीके पर बोलते हुए उन्होने कहा कि वह कौन है, जबसे वह पार्टी में आये थे, संगठन का कौन सा काम उन्होने किया है, वह कहां काम कर रहे हैं, अगर उन्हें जदयू की नीति पसंद नहीं है, तो उन्हें अपना रास्ता चुनना चाहिये।

जो पार्टी छोड़ना चाहते हैं आजाद हैं
आरसीपी सिंह इतने में ही नहीं रुके, उन्होने कहा कि अगर कोई पार्टी छोड़ना चाह रहा है, तो वो उसके लिये आजाद हैं, आपको बता दें कि लोकसभा में जदयू सांसद दल के नेता राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह ने भी कहा कि अगर पार्टी प्रमुख ने फैसला लिया है, तो फिर कदम वापस खींचने का सवाल ही नहीं है।

पार्टी के फैसले का विरोध
नागरिकता बिल और एनआरसी पर पार्टी के खिलाफ राय देते हुए पीके ने ट्वीट कर लिखा था कि संसद में बहुमत साबित हो चुका है, न्यायपालिका से इतर देश को आत्मा को बचाने की जिम्मेदारी अब 16 गैर बीजेपी मुख्यमंत्रियों पर है, ये वो राज्य हैं, जिन्हें इन कानूनों को लागू करना है, नीतीश पर निशाना साधते हुए प्रशांत ने लिखा था तीन मुख्यमंत्रियों (पंजाब, केरल और पश्चिम बंगाल) ने नागरिकता संशोधन बिल और एनआरसी का विरोध किया है, अब समय आ गया है कि बाकी सीएम भी इस पर अपना रुख स्पष्ट करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here