संसद परिसर में पार्टी बैठक में प्रधानमंत्री भावुक हो गये, उन्होने कहा कि जो लोग आजादी के समय वंदे मातरम का विरोध करते थे, वही देश को तोड़ने की बात कर रहे हैं।

दिल्ली हिंसा पर जारी आरोप-प्रत्यारोप के बीच पीएम मोदी ने बीजेपी संसदीय दल की बैठक में अपनी ही पार्टी के नेताओं को नसीहत दी है, उन्होने सांसदों से कहा कि दल से बड़ा देश होता है, पीएम ने अपने संबोधन में कहा कि हम राष्ट्रीय हित के लिये यहां जमा हुए हैं, राष्ट्र सबसे ऊपर है, और विकास हमारा मंत्र है, संसद सत्र शुरु होने से पहले मंगलवार को हुई बैठक में मोदी ने कहा कि विकास के लिये शांति और सद्भाव जरुरी है, आज भी कई राजनीतिक पार्टियां है, जो पार्टी हित को राष्ट्र हित से ऊपर रखती है।

एकता का संदेश
संसद के पुस्तकालय में हुई मीटिंग में पीएम मोदी ने कहा कि सभी सांसदों को समाज में शांति, सौहार्द्र और एकता सुनिश्चित करने में अग्रणी भूमिका निभानी चाहिये, आपको बता दें कि बीजेपी संसदीय दल की बैठक में पीएम मोदी, अमित शाह, जेपी नड्डा और राजनाथ सिंह समेत कई बीजेपी सांसद मौजूद थे।

देश तोड़ने वालों को कड़ा संदेश
संसद परिसर में पार्टी बैठक में प्रधानमंत्री भावुक हो गये, उन्होने कहा कि जो लोग आजादी के समय वंदे मातरम का विरोध करते थे, वही देश को तोड़ने की बात कर रहे हैं, हमारे लिये देशभक्ति अहम है ना कि दल, इसके साथ ही उन्होने देश तोड़ने वालों को कड़े शब्दों में चेतावनी भी दी है।

सोशल मीडिया छोड़ने की बात
सोमवार को पीएम मोदी ने सोशल मीडिया छोड़ने पर विचार करने की बात कह चुके हैं, हालांकि आज उन्होने इस राज से पर्दा उठाया,  उन्होने बताया कि वो अपना सोशल मीडिया हैंडल उन महिलाओं के नाम करेंगे, जिनसे उन्होने प्रेरणा ली है, महिला दिवस के दिन उन महिलाओं को पीएम का सोशल मीडिया हैंडल करने का मौका मिलेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here