पीके ने पहली बार 2017 में पंजाब विधानसभा चुनाव से कुछ समय पहले पार्टी के अभियान की कमान संभाली थी, इस चुनाव में कांग्रेस की मजबूत जीत के बाद पीके हीरो बनकर उभरे थे।

चर्चित राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के प्रमुख सलाहकार के पद से इस्तीफा दे दिया है, उन्होने मुख्यमंत्री के नाम लिखी चिट्ठी में सार्वजनिक जीवन से अस्थायी ब्रेक लेने के फैसले का जिक्र किया है, साथ ही कहा उन्हें अभी भी अपने आगे के कदमों पर विचार करना है।

कार्यमुक्त करने की अपील
प्रशांत किशोर की इस चिट्ठी का जिक्र करते हुए चर्चित पत्रकार बरखा दत्त ने भी ट्वीट किया है, बताया गया है कि पीके ने चिट्ठी में कैप्टन से खुद को कार्यमुक्त करने की अपील करते हुए कहा, कि उन्होने कभी सलाहकार के पद का प्रभार लिया ही नहीं, चूंकि मुझे अभी अपने भविष्य के कार्य के बारे में निर्णय लेना है, इसलिये मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि मुझे इस जिम्मेदारी से मुक्त करने की कृपा करें, इस पद के लिये मुझे चुनने और अवसर देने के लिये मैं आपको धन्यवाद देता हूं।

2017 में भी जुड़े थे
पीके ने पहली बार 2017 में पंजाब विधानसभा चुनाव से कुछ समय पहले पार्टी के अभियान की कमान संभाली थी, इस चुनाव में कांग्रेस की मजबूत जीत के बाद पीके हीरो बनकर उभरे थे, हालांकि अपने संगठन आईपैक के जरिये वो कई और नेताओं के अभियानों से भी जुड़े रहे।

राहुल अपने साथ लेना चाहते हैं
बंगाल में टीएमसी के लिये रणनीति बनाकर चुनाव में जबरदस्त सफलता दिलाने के बाद कांग्रेस पार्टी उन्हें अपने साथ लेना चाहती है, इसे लेकर उनकी राहुल और दूसरे नेताओं के साथ कई बार बैठक भी हो चुकी है, राहुल ने संकेत दिया है, कि पार्टी में उनकी भूमिका जल्द तय की जाएगी, फिलहाल इस बारे में पार्टी मंथन चल रहा है, नफा नुकसान देखा जा रहा है।

Read Also – शरद पवार ने फेर दिया पीके के मंसूबों पर पानी, बताया किसलिये मिलने पहुंचे थे?