navneet rana

अमरावती से पहली बार सांसद चुनी गई नवनीत राणा पर अब सीट गंवाने का खतरा मंडरा रहा है, दरअसल अमरावती लोकसभा सीट अनुसूचित जाति के लिये आरक्षित थी।

फर्जी कागजात का इस्तेमाल कर जाति प्रमाण पत्र बनवाने के आरोपों का सामना कर रही महाराष्ट्र में सांसद नवनीत राणा को कोर्ट से राहत नहीं मिली है, बॉम्बे हाईकोर्ट ने राणा के जाति प्रमाण पत्र को खारिज कर दिया है, इतना ही नहीं कोर्ट ने उनके ऊपर 2 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है, आपको बता दें कि नवनीत अमरावती सीट से निर्दलीय सांसद है, उनके पति रवि राणा बडनेरा विधानसभा सीट से विधायक हैं, इससे पहले कोर्ट ने 2014 में भी उनका जाति प्रमाण पत्र खारिज कर दिया था।

सीट गंवाने का खतरा
अमरावती से पहली बार सांसद चुनी गई नवनीत राणा पर अब सीट गंवाने का खतरा मंडरा रहा है, दरअसल अमरावती लोकसभा सीट अनुसूचित जाति के लिये आरक्षित थी, हालांकि कोर्ट ने अभी इस मामले पर कोई टिप्पणी नहीं की है, अमरावती विदर्भ क्षेत्र का दूसरा सबसे बड़ा शहर है, मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार एक्टिंग से पॉलिटिक्स में एंट्री लेने वाली नवनीत सात भाषाएं जानती हैं, उन्होने चुनाव में पूर्व सांसद और दिग्गज शिवसेना नेता आनंदराव अद्सुल को हराया था।

शिवसेना पर धमकाने का आरोप
बीते मार्च में नवनीत ने शिवसेना सांसद अरविंद सावंत पर आरोप लगाया था, उन्होने कहा था कि सावंत ने उन्हें लोकसभा की लॉबी में सदन में महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ बोलने पर जेल भेजने की चेतावनी दी थी, नवनीत महाराष्ट्र की 8 महिला सांसदों में से एक हैं, उन्होने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला से भी फोन कॉल पर एसिड अटैक की धमकियां मिलने की शिकायत की थी।

साउथ फिल्मों में काम
35 वर्षीय नवनीत कौर राणा का जन्म मुंबई में हुआ था, उनके पैरेंट्स पंजाबी मूल के हैं, कन्नड़ फिल्म दर्शन से एक्टिंग की शुरुआत करने वाली नवनीत ने कई तेलुगू, पंजाबी समेत कई भाषाओं में काम किया है, राणा के पिता आर्मी में अधिकारी थे, हालांकि बताया जाता है कि नवनीत ने सिर्फ 12वीं तक ही पढाई की है, इसके बाद वो मॉडलिंग करने लगी, फिर फिल्मों में काम करने लगी।

Read Also – सामने आई मेहुल चोकसी की कथित प्रेमिका, बताया पूरा प्लान, सुनिये रिश्तों पर क्या कहा