मनमोहन सिंह के बयान से भड़का पूर्व पीएम का परिवार, कहा बिना देर किये माफी मांगें

0
161
Loading...

नरसिम्हा राव के पोते एनवी सुभाष ने इस पर आपत्ति जाहिर की है, उन्होने कहा कि वो मनमोहन सिंह के बयान से बेहद आहत हैं।

देश के पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने 1984 सिख दंगे को लेकर बयान दिया, जिसके बाद एक और पूर्व पीएम नरसिम्हा राव का परिवार इनसे बेहद नाराज हो गया, राव के पोते एनवी सुभाष ने कहा कि मनमोहन सिंह को तुरंत बिना शर्त माफी मांगनी चाहिये, मालूम हो कि मनमोहन सिंह ने कल कहा था कि अगर तत्कालीन केन्द्रीय गृह मंत्री पीवी नरसिम्हा राव ने इंद्र कुमार गुजराल की सलाह मानी होती, तो दिल्ली में सिख नरसंहार को टाला जा सकता था, पूर्व प्रधानमंत्री ने ये बातें गुजराल की 100वीं जयंती पर आयोजित एक कार्यक्रम में कही।

पोते ने तुरंत जताई नाराजगी
नरसिम्हा राव के पोते एनवी सुभाष ने इस पर आपत्ति जाहिर की है, उन्होने कहा कि वो मनमोहन सिंह के बयान से बेहद आहत हैं, अगर वो नरसिम्हा राव को इस दंगे के लिये जिम्मेदार ठहरा रहे हैं, तो उन्हें इसके लिये राजीव गांधी को भी दोषी ठहराना चाहिये, इसके साथ ही उन्होने ये भी कहा कि अगर वो सिख दंगे से आहत थे, तो उन्हें नरसिम्हा राव सरकार में शामिल नहीं होना चाहिये था, सुभाष ने कहा कि हम लोग चाहते हैं कि मनमोहन सिंह तुरंत अपने बयान के लिये बिना शर्त हमारे परिवार से माफी मांगें।

क्या कहा था मनमोहन ने
पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा था कि दिल्ली में जब 1984 में सिख दंगे हो रहे थे, तो गुजराल जी तत्कालीन गृह मंत्री नरसिम्हा राव के पास गये, उन्होने कहा कि हालात बेहद गंभीर है, सरकार को जल्द से जल्द सेना को बुलाने की आवश्यकता है, लेकिन तत्कालीन सरकार ने इंद्र कुमार गुजराल की सलाह पर गौर नहीं किया।

1984 सिख दंगा
आपको बता दें कि साल 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की उनके बॉडीगार्ड ने हत्या कर दी थी, जिसके बाद पूरे देश में सिख विरोधी दंगे भड़क उठे थे, देशभर में करीब तीन हजार से ज्यादा लोग मारे गये थे, सबसे ज्यादा दिल्ली में दो हजार से ज्यादा लोगों ने अपनी जान गंवाई थी, इंदिरा गांधी की हत्या की खबर सुनते ही भीड़ सड़क पर उतर आई और खून के बदले खून का नारा लगाने लगी।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here