mulayam family1

मोनिका यादव को समाजवादी पार्टी ने जिला पंचायत अध्यक्ष का उम्मीदवार नहीं बनाया, जिससे वो नाराज चल रही थी, उन्होने सपा की प्राथमिक सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया और बीजेपी से समर्थन मांगा।

यूपी में जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव से पहले दल-बदल का खेल शुरु हो चुका है, सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के परिवार में बीजेपी ने सेंधमारी की है, मुलायम की पूर्व पुत्र वधू मोनिका यादव ने बीजेपी का दामन थाम लिया है, आपको बता दें कि मोनिका सपा के पूर्व सांसद धर्मेन्द्र यादव की पूर्व पत्नी हैं, हालांकि अब दोनों अलग हो चुके हैं।

कौन है मोनिका यादव
मोनिका यादव फर्रुखाबाद के बड़े राजनीतिक परिवार से नाता रखती है, उनके पिता नरेन्द्र सिंह यादव समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता और पूर्व मंत्री थे, वहीं मोनिका की शादी सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के भतीजे धर्मेन्द्र यादव से हुई थी, हालांकि अब ये शादी टूट चुकी है, दोनों अलग हो चुके हैं।

बीजेपी से मांगा समर्थन
मोनिका यादव को समाजवादी पार्टी ने जिला पंचायत अध्यक्ष का उम्मीदवार नहीं बनाया, जिससे वो नाराज चल रही थी, उन्होने सपा की प्राथमिक सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया और बीजेपी से समर्थन मांगा। सपा ने मोनिका को किनारे कर रामगोपाल यादव के करीबी सुबोध यादव को उम्मीदवार बनाया है, इसी बात को लेकर मोनिका ने पार्टी छोड़ दी, जिसके बाद उन्होने बीजेपी से समर्थन मांगा और बीजेपी राजी हो गई। बीजेपी ने मोनिका को निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर समर्थन किया है।

बीजेपी का दांव
आपको बता दें कि जिला पंचायत में बीजेपी के सिर्फ 4 सदस्य ही चुनाव जीत कर आये हैं, ऐसी हालत में बीजेपी अपने दम पर चुनाव जीतने की स्थिति में नहीं थी, इसलिये वो मोनिका यादव पर दांव लगा रही है, अब देखना है कि फर्रुखाबाद में जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर सपा उम्मीदवार की ताजपोशी होती है या सपा के विद्रोही को जीत मिलती है।

Read Also – बंगाल बीजेपी अध्यक्ष का नुसरत जहां पर विवादित बयान, ममता बनर्जी को भी लपेटा