cm-kamalnath

17 दिनों की सियासी उठा-पटक और जमकर ड्रामे के बाद आखिरकार कमलनाथ ने फ्लोर टेस्ट से पहले अपने इस्तीफे का ऐलान कर दिया है. साथ ही बीजेपी पर गंभीर आरोप लगाए हैं.

17 दिनों के बाद मध्य प्रदेश का सियासी नाटक खत्म हो चुका है. क्योंकि, बहुमत न होने की वजह से मुख्यमंत्री कमलनाथ ने फ्लोर टेस्ट से पहले ही इस्तीफे का फैसला लिया है. साथ ही भारतीय जनता पार्टी पर आरोप लगाए हैं. कमलनाथ का कहना है कि, बीजेपी ने कांग्रेस के 22 विधायकों को बंधक बनाया जिसकी वजह से उनकी सरकार अस्थिर हुई. इसके साथ ही कमलनाथ बोले कि, बीजेपी वाले याद रखें कल और परसो आगा और उस समय सारी सच्चाई सामने आएगी. कमलनाथ यहीं नहीं रुके बल्कि उन्होंने आगे कहा कि, बीजेपी ने करोड़ों रुपये का खेल खेला है और इसकी सच्चाई कुछ दिनों के बाद पूरे देश के सामने आएगी.

ये भी पढ़ेंः- सिंधिया के समर्थन में खुलकर सामने आये कांग्रेस के बागी विधायक, अपनी ही सरकार पर गंभीर आरोप

BJP ने किया जनता के साथ विश्वासघात
इसके साथ ही कमलनाथ ने बीजेपी पर विश्वासघात करने के आरोप लगाते हुए कहा कि, विधानसभा में हमारी सरकार ने तीन बार अपना बहुमत साबित किया. पर बीजेपी ने जनता के विश्वास का दुरुपयोग करते हुए लोकतांत्रिक मूल्यों की हत्या की है. उन्होंने आरोप लगाया कि, बीजेपी शुरुआत से ही हमारी सरकार गिराने की कोशिश में लगे हुए थे.

ये भी पढ़ेंः- इन दो महिलाओं ने लिखी पटकथा, अमित शाह ने की निगरानी, फिर भाजपाई हो गये ज्योतिरादित्य सिंधिया

इस्तीफे से पहले गिनाई उपलब्धियां
मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ ने पद से इस्तीफा देने से पहले अपनी सरकार की उपलब्धियों को भी गिनाया और बताया कि, उनकी सरकार ने आम जनता के हित के लिए काम किए. हमारी सरकार पर आम नागरिकों ने किसी तरह का आरोप नहीं लगाया मगर बीजेपी के लोगों ने किसानों के साथ धोखा किया. पर जब हम किसानों के लिए काम करने लगे तो बीजेपी ने हमारे विधायको को बंधक बना लिया.

ये भी पढ़ेंः- ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कमलनाथ सरकार की खोल दी पोल, बताया क्यों हुए बीजेपी में शामिल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here