मटिहानी विधायक ने कहा कि कुछ लोग चर्चा करते होंगे, स्थिति स्पष्ट करने को, लेकिन उनकी स्थिति स्पष्ट है, मटिहानी की जनता ने जो वादे किये हैं, वो पूरा करेंगे।

लोजपा प्रमुख और जमुई सांसद चिराग पासवान ने बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान जदयू प्रमुख (तत्कालीन) और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर हमला बोला था, चुनाव से ठीक पहले एनडीए से अलग होकर चिराग ने नीतीश के खिलाफ मोर्चा खोला था, चुनाव के 6 महीने बाद आखिरकार नीतीश ने चिराग से अपना बदला ले लिया है, लोजपा के इकलौते विधायक राजकुमार सिंह जदयू में शामिल हो गये हैं, मटिहानी से विधायक राजकुमार सिंह लोजपा राष्ट्रीय महासचिव द्वारा कारण बताओ नोटिस दिये जाने से नाराज चल रहे थे, इसी नाराजगी की वजह से उन्होने जदयू में शामिल होने का मन बना लिया था, और बगावती तेवर दिखाने लगे थे।

जदयू को नुकसान
विधानसभा चुनाव के दौरान चिराग पासवान ने जदयू के खिलाफ अपने उम्मीदवार उतारे थे, जिससे नीतीश की पार्टी को बड़ा नुकसान हुआ था, जदयू सिर्फ 43 सीटों पर ही जीत हासिल कर सकी, इस चुनाव में सबसे ज्यादा सीट लालू की पार्टी राजद 75 और बीजेपी 74 ने जीती। लोजपा सिर्फ 1 सीट जीतने में सफल रही।

कठिन फैसला
राजकुमार सिंह ने अपने फैसले को कठिन बताया, उन्होने कहा कि पार्टी की ओर से मतदान लेकर कोई दिशा-निर्देश नहीं दिया गया था, स्पीकर के चुनाव के समय भी मैंने एनडीए के पक्ष में वोट किया था, इसलिये उपाध्यक्ष पद के लिये भी एनडीए को ही वोट किया। उन्होने कहा कि वो हमेशा एनडीए का हिस्सा थे, विधानसभा में भी हर फैसले में एनडीए का समर्थन किया था, वो सिर्फ बेगूसराय और मटिहानी विधानसभा को विकसित करने के लिये नीतीश के साथ गये हैं, ताकि जिले का विकास हो सके।

विकास के साथ
मटिहानी विधायक ने कहा कि कुछ लोग चर्चा करते होंगे, स्थिति स्पष्ट करने को, लेकिन उनकी स्थिति स्पष्ट है, मटिहानी की जनता ने जो वादे किये हैं, वो पूरा करेंगे, जदयू जिलाध्यक्ष रुदल ने कहा, कि विधायक के जदयू में शामिल होने के बाद उनका स्वागत किया गया है, वो विकास की भावना से जदय़ू में शामिल हुए हैं।

Read Also – मुख्तार अंसारी को रास्ते में ही बम से उड़ाने की थी साजिश, बिहार के विधायक ने 50 लाख की दी थी सुपारी!