lalu bjp

ललन पासवान ने कहा कि लालू यादव लोकतंत्र से खिलवाड़ कर रहे हैं, उनके द्वारा जनादेश को खंडित करने की कोशिश की जा रही है।

बिहार के पूर्व सीएम और राजद सुप्रीमो लालू यादव के फोन मामले को लेकर बीजेपी विधायक ललन पासवान ने गुरुवार को निगरानी थाने में मुकदमा दर्ज करवाया है, इसके बाद मीडिया से बात करते हुए उन्होने कहा कि लालू प्रसाद यादव षडयंत्र कर रबे थे, जिसमें वो विफल रहे, पार्टी ने तय किया कि इस मामले में एफआईआर करनी चाहिये, तो मैंने निगरानी थाने में मुकदमा दर्ज करा दिया है।

लोकतंत्र से खिलवाड़
ललन पासवान ने कहा कि लालू यादव लोकतंत्र से खिलवाड़ कर रहे हैं, उनके द्वारा जनादेश को खंडित करने की कोशिश की जा रही है, इसी वजह से मैंने कानून का सहारा लिया है, इस घटना से मैं बेहद दुखी हूं, पार्टी मेरे लिये मां है और मां के चलते मैं हर सुख ठुकरा सकता हूं, मीडिया से बात करते हुए बीजेपी विधायक ने कहा कि बिहार का सबसे गरीब विधायक होने के साथ ही मैं दलित हूं, ये आम धारणा है कि दलित और गरीब आदमी बिकाऊ होता है, ये धारणा कब बदलेगी। सामाजिक न्याय के पुरोधा कहे जाने वाले लालू प्रसाद ने जिस तरह से फोन कर मुझे खरीदने की कोशिश की, उससे दुखी हूं।

पढा-लिखा और स्वाभिमानी
गुरुवार को प्रदेश बीजेपी ऑफिस में ललन पासवान ने कहा कि मैं पढा लिखा और स्वाभिमानी हूं, राष्ट्रवादी राजनीति कर रहा हूं, हमने प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट के तहत निगरानी थाने में मुकदमा दर्ज किया है, मुझे कानून पर भरोसा है और उम्मीद है कि मुझे न्याय मिलेगा। उन्होने कहा कि हकीकत है कि अगर देश में लोकतंत्र नहीं होता, तो लालू हों या मुझ जैसा गरीब ललन पासवान जैसा आदमी, कोई जानने वाला नहीं होता, लेकिन लालू लोकतंत्र के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं, मैं पार्टी का एक साधारण कार्यकर्ता हूं और हमेशा रहूंगा।

मुकेश सहनी को भी फोन
इसी मामले पर एक निजी मीडिया हाउस से बात करते हुए पशु एवं मत्सय पालन मंत्री मुकेश सहनी ने कहा कि जेल से फोन करने की परंपरा गलत है, हर किसी को कानून का पालन करना चाहिये, फिर चाहे वो जिस मुकाम पर हो, लालू यादव प्रकरण पर बोलते हुए मुकेश सहनी ने स्वीकार किया कि सरकार बनाने के जद्दोजहद कर रहे कई नेताओं ने उन्हें भी फोन किया था, सहनी ने कहा कि झारखंड सरकार को इस मामले में विधि सम्मत कार्रवाई करनी चाहिये, मंत्री ने कहा कि ललन पासवान ने अगर निगरानी थाने में मुकदमा दर्ज कराया है, तो फिर पूरे मामले की सही तरीके से जांच होनी चाहिये।