Sunday, April 18, 2021

चिराग ने पासवान की झोपड़ी में आग लगा दी, मांझी के दावे से बिहार राजनीति में भूकंप!

चिराग पासवान ने भी चुनावों में लोजपा को सिर्फ 1 सीट मिलने पर प्रतिक्रिया दी है, लेकिन इसके साथ ही अपना अगला लक्ष्य भी बता दिया है।

एक तरफ बिहार में नई सरकार बनने की कवायद जारी है, तो वहीं दूसरी ओर लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने सीएम नीतीश कुमार के लिये 2025 की भी चुनौती पेश कर दी है, इस बीच हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा ने बड़ा दावा किया है, जीतन राम मांझी की पार्टी ने लोजपा में बड़ी टूट होने की बात कही है, उनके मुताबिक कई सांसद और नेता हम का हिस्सा बनेंगे, पार्टी के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने न्यूज 18 से बात करते हुए कहा कि चिराग ने रामविलास पासवान की झोपड़ी में आग लगा दी, लोजपा के कई सांसद हमारे संपर्क में हैं, 10-15 दिनों में लोजपा के कुछ सांसद और नेता हम में शामिल होंगे।

मांझी ने बोला था चिराग पर हमला
आपको बता दें कि इससे पहले पूर्व सीएम और हम के अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने चिराग पासवान पर बड़ा हमला बोला था, उन्होने कहा था कि जिस डाल पर बैठें, उसी डाल को काट दें, तो हश्र क्या होता है, ठीक उसी प्रकार से चिराग साहब ने जिस फोल्ड में रहे उसे ही हराने और बर्बाद करने का काम किया, निश्चित तौर पर डाल तो कटी है, लेकिन उसके साथ ही वो खुद भी गिरे हैं, वो अपने चिराग से भस्म हो गये।

चिराग को सिर्फ 1 सीट
मालूम हो कि चिराग पासवान ने भी चुनावों में लोजपा को सिर्फ 1 सीट मिलने पर प्रतिक्रिया दी है, लेकिन इसके साथ ही अपना अगला लक्ष्य भी बता दिया है, उन्होने कहा कि उनका लक्ष्य 2025 बिहार विधानसभा चुनाव है, चिराग के अनुसार ज्यादातर सीटों पर उनकी पार्टी ने बढिया प्रदर्शन किया है, इसके साथ ही लोजपा ने 2025 के लक्ष्य के लिये काम शुरु कर दिया है, चिराग ने पीएम मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि उनकी शुरु से ही यही नीति थी कि बीजेपी को फायदा हो और जदयू को नुकसान हो।

एनडीए को बहुमत
गौरतलब है कि मंगलवार को आये विधानसभा चुनाव नतीजे में एनडीए को 125 सीटों पर जीत मिली है, जबकि महागठबंधन के खाते में 110 सीटें गई है, एनडीए में बीजेपी 74 सीटें जीतकर बिहार की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी है, जबकि जदयू सिर्फ 43 सीटें हासिल कर तीसरे नंबर की पार्टी रह गई है, वहीं हम और वीआईपी को 4-4 सीटें मिली है, जबकि विरोध में लड़ रही लोजपा के खाते में सिर्फ 1 सीट गई है।

Read Also – श्रेयसी सिंह से लेकर तेजस्वी यादव तक, राजनीति कभी नहीं था बिहार के इन युवा नेताओं का पहला प्यार!

Related Articles

- Advertisement -spot_img

Latest Articles