नीतीश की पार्टी की बड़ी तैयारी, बीजेपी से अलग अकेले चुनाव लड़ने का हुंकार

0
82
Loading...

बिहार में मिलकर सरकार चलाने वाली बीजेपी और जदयू के रिश्ते खट्टे-मीठे रहे हैं, राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर को लेकर दोनों दलों में कई बार बयानबाजी हो चुकी है।

दिल्ली में चुनाव की तारीखों का ऐलान हो चुका है, 8 फरवरी को मतदान और 11 को मतगणना होना है, दिल्ली की त्रिकोणीय लड़ाई के बीच एनडीए में सहयोगी जदयू भी मैदान में उतरने की तैयारी कर ली है। बिहार सरकार में मंत्री और दिल्ली के प्रभारी संजय झा ने कहा कि पार्टी लगभग आधी सीटों पर पूरे दमखम के साथ चुनावी मैदान में उम्मीदवार उतारेगी, जदयू की खास नजर उन क्षेत्रों पर है, जहां पूर्वांचल और बिहार के लोग रहते हैं।

पेयजल का मुद्दा
दिल्ली विधानसभा चुनाव में पेयजल की क्वालिटी को लेकर बीजेपी और सत्ताधारी आप के बीच ठनी हुई है, संजय झा ने कहा कि बिहार ने एक मॉडल दिया है, बिहार में 2020 के आखिर तक हर घर में साफ पेयजल पहुंचाने का काम पूरा हो जाएगा, जदयू दिल्ली में भी यही मॉडल पूरा करके दिखाएगी।

जदयू-बीजेपी के रिश्ते
आपको बता दें कि बिहार में मिलकर सरकार चलाने वाली बीजेपी और जदयू के रिश्ते खट्टे-मीठे रहे हैं, राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर को लेकर दोनों दलों में कई बार बयानबाजी हो चुकी है, इसके साथ ही कई मुद्दों पर जदयू बीजेपी से अलग राय रखती है।

झारखंड में भी लड़ा था चुनाव
हाल ही में संपन्न झारखंड विधानसभा चुनाव में भी जदयू ने बीजेपी के खिलाफ अपने उम्मीदवार उतारे थे, हालांकि उन्हें कुछ खास सफलता नहीं मिली, ज्यादातर उम्मीदवारों के जमानत तक जब्त हो गये, दिल्ली में जदयू इसलिये बड़ा फैक्टर माना जा रहा है, क्योंकि 20-22 विधानसभा सीटों पर बिहार और पूर्वांचल के लोगों का दबदबा है, ऐसे में जदयू अगर कुछ वोट काटती है, तो बीजेपी को नुकसान हो सकता है।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here