नीतीश कुमार ने प्रशांत किशोर के खिलाफ लिया एक्शन, पवन वर्मा भी नपे

0
123
Loading...

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी कुछ दिन पहले प्रशांत किशोर पर पूछे गये सवाल पर कहा था कि 19 जनवरी को मानव श्रृंखला खत्म होने के बाद ही इस मससे पर कुछ बोलना होगा, तो बोलूंगा।

दिल्ली विधानसभा चुनाव में बीजेपी-जदयू-लोजपा के साथ लड़ने और सीटों के समझौते के ऐलान के साथ ही एक और बड़ी बात हुई है, दरअसल जदयू ने दिल्ली चुनाव के लिये जिन नेताओं का नाम स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल किया गया था, उनमें पार्टी उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर यानी पीके का नाम नहीं है, खास बात ये है कि हाल ही में झारखंड में संपन्न विधानसभा चुनाव में उनका नाम स्टार प्रचारकों की सूची में था।

पीके के साथ पवन वर्मा का नाम भी नहीं
स्टार प्रचारक की सूची में प्रशांत किशोर के साथ ही राज्यसभा सांसद पवन वर्मा का नाम भी नहीं है, राजनीतिक विश्लेषकों के मुकाबिक इसके पीछे ये वजह बताई जा रही है, कि दोनों ही नेताओं ने कई मामलों में पार्टी लाइन से हटकर बयानबाजी की थी, नागरिकता कानून और एनआरसी जैसे मुद्दे को लेकर इन दोनों ने जदयू की आधिकारिक लाइन से हटकर बयान दिया था।

तो उनके खिलाफ हुई कार्रवाई
मालूम हो कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी कुछ दिन पहले प्रशांत किशोर पर पूछे गये सवाल पर कहा था कि 19 जनवरी को मानव श्रृंखला खत्म होने के बाद ही इस मससे पर कुछ बोलना होगा, तो बोलूंगा, बताया जा रहा है कि स्टार प्रचारकों की सूची से पवन वर्मा और पीके को बाहर किया जाना उसी कड़ी का हिस्सा है, मालूम हो कि पीके नागरिकता कानून और एनआरसी को लेकर मोदी सरकार की लगातार आलोचना करते आ रहे हैं, हाल ही में उन्होने नीतीश कुमार को एक खुला पत्र लिखकर उसे बिहार में लागू नहीं करने की अपील भी की थी।

ये भी एक वजह
इसके साथ ही एक बड़ी वजह ये भी बताई जा रही है कि चुनावी रणनीति बनाने वाली प्रशांत किशोर की कंपनी आई-पैक दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के लिये काम कर रही है, जो बीजेपी के खिलाफ मुख्य विरोधी पार्टी है, दिल्ली विधानसभा चुनाव में बीजेपी और जदयू गठबंधन में चुनाव लड़ रही है, ऐसे में प्रशांत किशोर कैसे बीजेपी के खिलाफ प्रचार करते ।

ये हैं जदयू के स्टार प्रचारक
जदयू ने स्टार प्रचारक की सूची में जिन लोगों को शामिल किया है, उनमें सीएम नीतीश कुमार, आरसीपी सिंह, राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह, श्रवण कुमार, अशोक चौधरी, महेश्वर हजारी, जय कुमार सिंह, दिलेश्वर कामत, चंद्रेश्वर चंद्रवंशी, सुनील कुमार पिंटू, वशिष्ठ नारायण सिंह, महाबली सिंह, संजय कुमार झा, रामनाथ ठाकुर, अशफाक अहमद खान, दयानंद राय, आरपी मंडल, कविता सिंह, केसी त्यागी और राज सिंह मान का नाम शामिल है।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here