पहले समर्थन, अब कह रहे ये बात, क्या नागरिकता संशोधन बिल पर पलटी मारेंगे नीतीश कुमार?

0
67
Loading...

चुनावी रणनीतिकार और जदयू उपाध्यक्ष ने ट्विटर पर लिखा है, जदयू के नागरिकता संशोधन विधेयक को समर्थन देने से निराश हुआ।

लोकसभा में नागरिकता संशोधन पास हो चुका है, इस बिल के पक्ष में 311 वोट पड़े, जबकि विरोध में सिर्फ 80, नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड ने भी बिल का समर्थन किया और उनके सांसदों ने पक्ष में वोट किये, लेकिन अब नीतीश की पार्टी दो फाड़ होती दिख रही है, जदयू राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने इस पर आपत्ति जताते हुए निराशा जाहिर की है, उन्होने कहा कि ये विधेयक पार्टी के संविधान से मेल नहीं खाता।

निराशा जाहिर की
चुनावी रणनीतिकार और जदयू उपाध्यक्ष ने ट्विटर पर लिखा है, जदयू के नागरिकता संशोधन विधेयक को समर्थन देने से निराश हुआ, ये विधेयक नागरिकता के अधिकार से धर्म के आधार पर भेदभाव करता है, ये पार्टी के संविधान से मेल नहीं खाता, उनकी पार्टी के संविधान में धर्म-निरपेक्ष शब्द पहले पन्ने पर तीन बार आता है, पार्टी का नेतृत्व गांधी के सिद्धांतों को मानने वाला है।

Loading...

जदयू ने किया समर्थन
वहीं विधेयक पर चर्चा के दौरान लोकसभा में जदयू सांसद राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह ने कहा कि जदयू विधेयक का समर्थन इसलिये कर रही है, क्योंकि ये धर्मनिरपेक्षता के खिलाफ नहीं है, मुंगेर सांसद ने कहा कि सदन में कुछ लोग अपने-अपने हिसाब से धर्म-निरपेक्षता की परिभाषा गढ रहे हैं।

न्याय मिलेगा
ललन सिंह ने आगे बोलते हुए कहा कि इस विधेयक को लेकर पूर्वोत्तर के लोगो को कुछ शंकाएं थी, लेकिन उन शंकाओं को भी दूर कर दिया गया है, उन्होने कहा कि जो लोग इतने समय से न्याय की आस लगाये हुए थे, उन्हें ये बड़ी राहत प्रदान करेगा, लोकसभा में समर्थन और पार्टी के बड़े नेता द्वारा निराशा जाहिर किये जाने के बाद अब नीतीश का अगला स्टैंड क्या होगा, लोगों की नजर इस बात पर है।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here