कभी चुनाव नहीं हारे हैं अमित शाह, ऐसे तय किया एक मामूली कार्यकर्ता से गृह मंत्री तक का सफर!

0
36
amit shah

बीजेपी की अपार सफलता के पीछे अमित शाह का महत्वपूर्ण योगदान माना जाता है, मोदी से पहली बार अमित शाह साल 1982 में मिले थे।

केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह आज अपना 56वां जन्मदिन मना रहे हैं, कम ही लोगों को पता है कि अमित शाह राजनीति में आने से पहले प्लास्टिक पाइप का पारिवारिक बिजनेस संभालते थे, शाह की शादी साल 1987 में 23 साल की उम्र में हो गई थी, उनकी पत्नी का नाम सोनल शाह है, दोनों का एक बेटा है, जिनका नाम जय शाह है, अपने राजनीतिक करियर में अमित शाह एक बार भी चुनाव नहीं हारे हैं, आइये उनके जन्मदिन पर कुछ दिलचस्प बातें बताते हैं।

मोदी से मुलाकात
बीजेपी की अपार सफलता के पीछे अमित शाह का महत्वपूर्ण योगदान माना जाता है, मोदी से पहली बार अमित शाह साल 1982 में मिले थे, उन दिनों अहमदाबाद में कॉलेज में पढते थे, मोदी आरएसएस के प्रचारक थे, साल 1986 में अमित शाह बीजेपी में शामिल हो गये, 90 के दशक में मोदी ने आडवाणी के सोमनाथ से अयोध्या रथयात्रा में बड़ी भूमिका निभाई थी। आडवाणी जी जब गांधीनगर से चुनाव लड़ते थे, तो अमित शाह प्रचार का जिम्मा संभालते थे।

करियर की शुरुआत
अमित शाह ने 1997 में गुजरात की सरखेज विधानसभा सीट से उपचुनाव जीतकर अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की, साल 1999 में अहमदाबाद डिस्ट्रिक्ट कोऑपरेटिव बैंक के प्रेसिडेंट चुने गये, 2009 में गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के उपाध्यक्ष बने, फिर 2014 में पीएम मोदी के गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन का पद छोड़ने पर जय शाह अध्यक्ष बने, वो फिलहाल बीसीसीआई के सचिव हैं।

एक भी चुनाव नहीं हारे
2003 से 2010 तक अमित शाह गुजरात में मोदी सरकार में गृह मंत्रालय संभाला, वो अपने राजनीतिक करियर में एक भी चुनाव नहीं हारे हैं। 16वीं लोकसभा के लगभग 10 महीने पहले अमित शाह को 12 जून 2013 को बीजेपी के यूपी का प्रभारी बनाया गया, amit shah41 तब प्रदेश में बीजेपी की मात्र 10 लोकसभा सीटें थी। 16 मई 2014 को जब चुनाव परिणाम आये, तो बीजेपी को 80 में से 71 सीटें मिली थी, साथ ही दो सीटें गठबंधन के साथी को, इस तरह कुल 73 सीटें मिली। प्रदेश में ये बीजेपी के लिये अब तक की सबसे बड़ी जीत थी, जिसके बाद अमित शाह को पार्टी का अध्यक्ष बना दिया गया, 2019 लोकसभा चुनाव में शाह गांधीनगर सीट से चुनकर संसद पहुंचे। दूसरी बार केन्द्र में भारी मतों से अपनी सरकार बनाने के बाद बीजेपी ने 30 मई 2019 को शाह ने गृहमंत्री पद का शपथ लिया।

Read Also – अनुराग कश्यप की मुश्किलें बढी, एक्ट्रेस ने लगाया संगीन आरोप, पीएम मोदी से गुहार